Home कोट्सsad quotes sad poetry in urdu | sad urdu shayari

sad poetry in urdu | sad urdu shayari

by piyush Hindustani
heart touching poetry in urdu

उर्दू शायरी की सबसे खास बात यह है की इसके लब्ज़ लोगो के दिलो में घर कर जाते है और इसीलिए urdu shayari सीधे दिल में उतर जाती है। best urdu shayari को पढ़ने और लिखने वाले लोगो की तादात दिनों पर दिन बढ़ रही है और लोग sad poetry in urdu और sad urdu shayari को खूब पसंद कर रहे हैं।
आज कल लोग जब भी उदास होते है sad poetry in urdu को पढ़ते है और best urdu poetry स्टेटस लगते है इसलिए हम आपके लिए लेकर आये है sad poetry in urdu 2 lines और heart touching poetry in urdu का एक दिलकश कलेक्शन जो आपका दिल छु लेगा।

 


 

sad poetry in urdu

sad poetry in urdu

sad poetry in urdu

 


 

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब
आज तुम याद बे-हिसाब आए

kar raha tha gam-e-jahaan ka hisaab
aaj tum yaad be-hisaab aae

 


 

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएँ कैसे
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे

apane chehare se jo zaahir hai chhupaen kaise
teree marzee ke mutaabiq nazar aaen kaise

 


 

सारी दुनिया के ग़म हमारे हैं
और सितम ये कि हम तुम्हारे हैं

saaree duniya ke gam hamaare hain
aur sitam ye ki ham tumhaare hain

 


 

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया

gam aur khushee mein farq na mahasoos ho jahaan
main dil ko us maqaam pe laata chala gaya

 


 

इस क़दर मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की
आज पहली बार उस से मैं ने बेवफ़ाई की

is qadar musalasal theen shiddaten judaee kee
aaj pahalee baar us se main ne bevafaee kee

 


 

एक वो हैं कि जिन्हें अपनी ख़ुशी ले डूबी
एक हम हैं कि जिन्हें ग़म ने उभरने न दिया

ek vo hain ki jinhen apanee khushee le doobee
ek ham hain ki jinhen gam ne ubharane na diya

 


 

ग़म से बिखरा न पाएमाल हुआ
मैं तो ग़म से ही बे-मिसाल हुआ

gam se bikhara na paemaal hua
main to gam se hee be-misaal hua

 


 

क़ैद-ए-हयात ओ बंद-ए-ग़म अस्ल में दोनों एक हैं
मौत से पहले आदमी ग़म से नजात पाए क्यूँ

qaid-e-hayaat o band-e-gam asl mein donon ek hain
maut se pahale aadamee gam se najaat pae kyoon

 


best urdu shayari

best urdu poetry

best urdu poetry

 


मुझे ख़बर नहीं ग़म क्या है और ख़ुशी क्या है
ये ज़िंदगी की है सूरत तो ज़िंदगी क्या है

mujhe khabar nahin gam kya hai aur khushee kya hai
ye zindagee kee hai soorat to zindagee kya hai

 


 

तुझ को पा कर भी न कम हो सकी बे-ताबी-ए-दिल
इतना आसान तिरे इश्क़ का ग़म था ही नहीं

tujh ko pa kar bhee na kam ho sakee be-taabee-e-dil
itana aasaan tire ishq ka gam tha hee nahin

 


 

ग़म है न अब ख़ुशी है न उम्मीद है न यास
सब से नजात पाए ज़माने गुज़र गए

gam hai na ab khushee hai na ummeed hai na yaas
sab se najaat pae zamaane guzar gae

 


 

ये ग़म नहीं है कि हम दोनों एक हो न सके
ये रंज है कि कोई दरमियान में भी न था

ye gam nahin hai ki ham donon ek ho na sake
ye ranj hai ki koee daramiyaan mein bhee na tha

 


 

जम्अ’ हम ने किया है ग़म दिल में
इस का अब सूद खाए जाएँगे

jam ham ne kiya hai gam dil mein
is ka ab sood khae jaenge

 


 

दर्द ओ ग़म दिल की तबीअत बन गए
अब यहाँ आराम ही आराम है

dard o gam dil kee tabeeat ban gae
ab yahaan aaraam hee aaraam hai

 


 

मिरी ज़िंदगी पे न मुस्कुरा मुझे ज़िंदगी का अलम नहीं
जिसे तेरे ग़म से हो वास्ता वो ख़िज़ाँ बहार से कम नहीं

miree zindagee pe na muskura mujhe zindagee ka alam nahin
jise tere gam se ho vaasta vo khizaan bahaar se kam nahin

 


 

दिल गया रौनक़-ए-हयात गई
ग़म गया सारी काएनात गई

dil gaya raunaq-e-hayaat gaee
gam gaya saaree kaenaat gaee

 


 

अश्क-ए-ग़म दीदा-ए-पुर-नम से सँभाले न गए
ये वो बच्चे हैं जो माँ बाप से पाले न गए

ashk-e-gam deeda-e-pur-nam se sanbhaale na gae
ye vo bachche hain jo maan baap se paale na gae

 


sad poetry in urdu 2 lines

sad poetry in urdu 2 lines

sad poetry in urdu 2 lines

 


दिल दबा जाता है कितना आज ग़म के बार से
कैसी तन्हाई टपकती है दर ओ दीवार से

dil daba jaata hai kitana aaj gam ke baar se
kaisee tanhaee tapakatee hai dar o deevaar se

 


 

ग़म की दुनिया रहे आबाद ‘शकील’
मुफ़लिसी में कोई जागीर तो है

gam kee duniya rahe aabaad shakeel
mufalisee mein koee jaageer to hai

 


 

सुकून दे न सकीं राहतें ज़माने की
जो नींद आई तिरे ग़म की छाँव में आई

sukoon de na sakeen raahaten zamaane kee
jo neend aaee tire gam kee chhaanv mein aaee

 


 

लज़्ज़त-ए-ग़म तो बख़्श दी उस ने
हौसले भी ‘अदम’ दिए होते

lazzat-e-gam to bakhsh dee us ne
hausale bhee adam die hote

 


 

ग़म है आवारा अकेले में भटक जाता है
जिस जगह रहिए वहाँ मिलते-मिलाते रहिए

gam hai aavaara akele mein bhatak jaata hai
jis jagah rahie vahaan milate-milaate rahie

 


 

ज़िंदगी कितनी मसर्रत से गुज़रती या रब
ऐश की तरह अगर ग़म भी गवारा होता

zindagee kitanee masarrat se guzaratee ya rab
aish kee tarah agar gam bhee gavaara hota

 


 

ग़म मुझे देते हो औरों की ख़ुशी के वास्ते
क्यूँ बुरे बनते हो तुम नाहक़ किसी के वास्ते

gam mujhe dete ho auron kee khushee ke vaaste
kyoon bure banate ho tum naahaq kisee ke vaaste

 


best urdu poetry | sad urdu shayari

best urdu shayari

best urdu shayari

 


मसर्रत ज़िंदगी का दूसरा नाम
मसर्रत की तमन्ना मुस्तक़िल ग़म

masarrat zindagee ka doosara naam
masarrat kee tamanna mustaqil gam

 


 

ऐश ही ऐश है न सब ग़म है
ज़िंदगी इक हसीन संगम है

aish hee aish hai na sab gam hai
zindagee ik haseen sangam hai

 


 

कोई इक ज़ाइक़ा नहीं मिलता
ग़म में शामिल ख़ुशी सी रहती है

koee ik zaiqa nahin milata
gam mein shaamil khushee see rahatee hai

 


 

ग़म-ए-हस्ती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग इलाज
शम्अ हर रंग में जलती है सहर होते तक

gam-e-hastee ka asad kis se ho juz marg ilaaj
sham har rang mein jalatee hai sahar hote tak

 


 

वो बात ज़रा सी जिसे कहते हैं ग़म-ए-दिल
समझाने में इक उम्र गुज़र जाए है प्यारे

vo baat zara see jise kahate hain gam-e-dil
samajhaane mein ik umr guzar jae hai pyaare

 


heart touching poetry in urdu

heart touching poetry in urdu

heart touching poetry in urdu

 


भूले-बिसरे हुए ग़म फिर उभर आते हैं कई
आईना देखें तो चेहरे नज़र आते हैं कई

bhoole-bisare hue gam phir ubhar aate hain kaee
aaeena dekhen to chehare nazar aate hain kaee

 


 

हज़ार तरह के थे रंज पिछले मौसम में
पर इतना था कि कोई साथ रोने वाला था

hazaar tarah ke the ranj pichhale mausam mein
par itana tha ki koee saath rone vaala tha

 


 

इक इक क़दम पे रक्खी है यूँ ज़िंदगी की लाज
ग़म का भी एहतिराम किया है ख़ुशी के साथ

ik ik qadam pe rakkhee hai yoon zindagee kee laaj
gam ka bhee ehatiraam kiya hai khushee ke saath

 


 

ग़म में कुछ ग़म का मशग़ला कीजे
दर्द की दर्द से दवा कीजे

gam mein kuchh gam ka mashagala keeje
dard kee dard se dava keeje

 


 

हम आज राह-ए-तमन्ना में जी को हार आए
न दर्द-ओ-ग़म का भरोसा रहा न दुनिया का

ham aaj raah-e-tamanna mein jee ko haar aae
na dard-o-gam ka bharosa raha na duniya ka

 


world best collection of hindi shayari

TWO LINE SHAYARI | दो लाइन शायरी हिंदी में | 2 LINE STATUS

SAD STATUS FOR LOVE IN HINDI

EMOTIONAL STATUS FOR WHATSAPP | EMOTIONAL STATUS

मेरे प्यार की दीवानगी… VIDEO | प्यार की इससे खूबसूरत शायरी आपने नहीं सुनी होगी

 


 

You may also like