Home शायरीTwo Line Shayari majrooh sultanpuri साहब के कुछ सुने-अनसुने बेहतरीन शेर

majrooh sultanpuri साहब के कुछ सुने-अनसुने बेहतरीन शेर

by piyush Hindustani
Hindi shayari | Urdu shayari

मजरुह सुल्तानपुरी उर्दू के सबसे बड़े शायरों में से एक थे उनका जन्म 1 अक्टूबर 1919 को उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले में हुआ था। majrooh sultanpuri shayari के लिए बहुत प्रसिद्ध थे majrooh साहब पहले उर्दू शायरी करते थे और उन्हें 20वीं सदी के उर्दु शायरी जगत के बेहतरीन शायरों में गिना जाता है। बाद में majnu sultanpuri बॉलीवुड में गीतकार के रूप में प्रसिद्ध हुये। उन्होंने अपनी रचनाओं के जरिए देश, समाज और साहित्य को नयी दिशा देने का काम किया।

आज Hindi Hain Hum आप सभी के लिए लाया है majrooh sultanpuri shayari in hindi और majrooh sultanpuri shayari in urdu का एक बेहतरीन कलेक्शन जो majrooh sultanpuri साहब के कुछ सुने और अनसुने शेरो शायरी को संजोये हुए है जो आपको आपको अवश्य पसंद आएगा।


majrooh sultanpuri

Majrooh Sultanpuri

Majrooh Sultanpuri


हम आज कहीं दिल खो बैठे
यूँ समझो किसी के हो बैठे

aaj hum kahi dil kho baithe,
youn samajho ki kisi ke ho baithe.

 


 

‘मजरूह’ लिख रहे हैं वो अहल-ए-वफ़ा का नाम
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह

majarooh likh rhe hain vo ahal-e-vafaka naam
hum bhi khade huye hain gunahagaar ki tarah.

 


 

उन से बिछड़े हुए ‘मजरूह’ ज़माना गुज़रा
अब भी होंटों में वही गर्मी-ए-रुख़्सार सही

un se bichhade hue majarooh zamaana guzara
ab bhee honton mein vahee garmee-e-rukhsaar sahee

 


 

कुछ बता तू ही नशेमन का पता
मैं तो ऐ बाद-ए-सबा भूल गया

kuchh bata too hee nasheman ka pata
main to ai baad-e-saba bhool gaya

 


majrooh sultanpuri shayari

majrooh sultanpuri shayari

majrooh sultanpuri shayari


दश्त ओ दर बनने को हैं ‘मजरूह’ मैदान-ए-बहार
आ रही है फ़स्ल-ए-गुल परचम को लहराए हुए

dasht o dar banane ko hain majarooh maidaan-e-bahaar
aa rahee hai fasl-e-gul paracham ko laharae hue

 


 

अब सोचते हैं लाएँगे तुझ सा कहाँ से हम
उठने को उठ तो आए तिरे आस्ताँ से हम

ab sochate hain laenge tujh sa kahaan se ham
uthane ko uth to aae tire aastaan se ham

 


 

मुझे दर्द-ए-दिल का पता न था
मुझे आप किस लिए मिल गए

mujhe dard-e-dil ka pata na tha
mujhe aap kis lie mil gae

 


 

तुझे न माने कोई तुझ को इस से क्या ‘मजरूह’
चल अपनी राह भटकने दे नुक्ता-चीनों को

tujhe na maane koee tujh ko is se kya majarooh
chal apanee raah bhatakane de nukta-cheenon ko

 


majrooh sultanpuri shayari in hindi

majrooh sultanpuri shayari in hindi

majrooh sultanpuri shayari in hindi


ऐसे हंस हंस के न देखा करो सब की जानिब
लोग ऐसी ही अदाओं पे फ़िदा होते हैं

aise hans hans ke na dekha karo sab kee jaanib
log aisee hee adaon pe fida hote hain

 


 

हम हैं राही प्यार के हम से कुछ न बोलिए
जो भी प्यार से मिला हम उसी के हो लिए

ham hain raahee pyaar ke ham se kuchh na bolie
jo bhee pyaar se mila ham usee ke ho lie

 


 

मिरी निगाह में है अर्ज़-ए-मास्को ‘मजरूह’
वो सरज़मीं कि सितारे जिसे सलाम करें

miree nigaah mein hai arz-e-maasko majarooh
vo sarazameen ki sitaare jise salaam karen

 


 

जा रहे हो तो ज़रा देखना तुम भी ‘मजरूह’
मेरी आँखें वहीं ज़िंदाँ के किसी रौज़न में

ja rahe ho to zara dekhana tum bhee majarooh
meree aankhen vaheen zindaan ke kisee rauzan mein

 


majrooh sultanpuri shayari in urdu

majrooh sultanpuri shayari in urdu

majrooh sultanpuri shayari in urdu


आरज़ू ही रह गई ‘मजरूह’ कहते हम कभी
इक ग़ज़ल ऐसी जिसे तस्वीर-ए-जानाना कहें

aarazoo hee rah gaee majarooh kahate ham kabhee
ik gazal aisee jise tasveer-e-jaanaana kahen

 


 

तिश्नगी ही तिश्नगी है किस को कहिए मय-कदा
लब ही लब हम ने तो देखे किस को पैमाना कहें

tishnagee hee tishnagee hai kis ko kahie may-kada
lab hee lab ham ne to dekhe kis ko paimaana kahen

 


 

कोई हम-दम न रहा कोई सहारा न रहा
हम किसी के न रहे कोई हमारा न रहा

koee ham-dam na raha koee sahaara na raha
ham kisee ke na rahe koee hamaara na raha

 


 

तिरे सिवा भी कहीं थी पनाह भूल गए
निकल के हम तिरी महफ़िल से राह भूल गए

tire siva bhee kaheen thee panaah bhool gae
nikal ke ham tiree mahafil se raah bhool gae

 


majrooh sultanpuri sher

majrooh sultanpuri sher

majrooh sultanpuri sher


दहर में ‘मजरूह’ कोई जावेदाँ मज़मूँ कहाँ
मैं जिसे छूता गया वो जावेदाँ बनता गया

dahar mein majarooh koee jaavedaan mazamoon kahaan
main jise chhoota gaya vo jaavedaan banata gaya

 


 

‘मजरूह’ क़ाफ़िले की मिरे दास्ताँ ये है
रहबर ने मिल के लूट लिया राहज़न के साथ

majarooh qaafile kee mire daastaan ye hai
rahabar ne mil ke loot liya raahazan ke saath

 


 

करो ‘मजरूह’ तब दार-ओ-रसन के तज़्किरे हम से
जब उस क़ामत के साए में तुम्हें जीने का ढंग आए

karo majarooh tab daar-o-rasan ke tazkire ham se
jab us qaamat ke sae mein tumhen jeene ka dhang aae

 


 

अब कारगह-ए-दहर में लगता है बहुत दिल
ऐ दोस्त कहीं ये भी तिरा ग़म तो नहीं है

ab kaaragah-e-dahar mein lagata hai bahut dil
ai dost kaheen ye bhee tira gam to nahin hai

 


मजरूह सुल्तानपुरी की शायरी

मजरूह सुल्तानपुरी की शायरी

मजरूह सुल्तानपुरी की शायरी


ये रुके रुके से आँसू ये दबी दबी सी आहें
यूँही कब तलक ख़ुदाया ग़म-ए-ज़िंदगी निबाहें

ye ruke ruke se aansoo ye dabee dabee see aahen
yoonhee kab talak khudaaya gam-e-zindagee nibaahen

 


 

सहरा में बगूला भी है ‘मजरूह’ सबा भी
हम सा कोई आवारा-ए-आलम तो नहीं है

sahara mein bagoola bhee hai majarooh saba bhee
ham sa koee aavaara-e-aalam to nahin hai

 


 

तुझे न माने कोई तुझ को इस से क्या मजरूह
चल अपनी राह भटकने दे नुक्ता-चीनों को

tujhe na maane koee tujh ko is se kya majarooh
chal apanee raah bhatakane de nukta-cheenon ko

 


 

‘मजरूह’ लिख रहे हैं वो अहल-ए-वफ़ा का नाम
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह

majarooh likh rahe hain vo ahal-e-vafa ka naam
ham bhee khade hue hain gunahagaar kee tarah

 


majnu sultanpuri songs

majnu sultanpuri songs

majnu sultanpuri songs


वो जो मिलते थे कभी हम से दिवानों की तरह
आज यूँ मिलते हैं जैसे कभी पहचान न थी

vo jo milate the kabhee ham se divaanon kee tarah
aaj yoon milate hain jaise kabhee pahachaan na thee

 


 

बहाने और भी होते जो ज़िंदगी के लिए
हम एक बार तिरी आरज़ू भी खो देते

bahaane aur bhee hote jo zindagee ke lie
ham ek baar tiree aarazoo bhee kho dete

 


 

रोक सकता हमें ज़िंदान-ए-बला क्या ‘मजरूह’
हम तो आवाज़ हैं दीवार से छन जाते हैं

rok sakata hamen zindaan-e-bala kya majarooh
ham to aavaaz hain deevaar se chhan jaate hain

 


 

सितम कि तेग़-ए-क़लम दें उसे जो ऐ ‘मजरूह’
ग़ज़ल को क़त्ल करे नग़्मे को शिकार करे

sitam ki teg-e-qalam den use jo ai majarooh
gazal ko qatl kare nagme ko shikaar kare

 


best shayari of majnu sultanpuri

best shayari of majnu sultanpuri

best shayari of majnu sultanpuri


यूँ तो आपस में बिगड़ते हैं ख़फ़ा होते हैं
मिलने वाले कहीं उल्फ़त में जुदा होते हैं

yoon to aapas mein bigadate hain khafa hote hain
milane vaale kaheen ulfat mein juda hote hain

 


 

बढ़ाई मय जो मोहब्बत से आज साक़ी ने
ये काँपे हाथ कि साग़र भी हम उठा न सके

badhaee may jo mohabbat se aaj saaqee ne
ye kaanpe haath ki saagar bhee ham utha na sake

 


 

‘मजरूह’ कहाँ से गुहर-ए-गंदुम-ओ-जौ लाएँ
अपनी तो गिरह में यही चश्म-ए-निगराँ है

majarooh kahaan se guhar-e-gandum-o-jau laen
apanee to girah mein yahee chashm-e-nigaraan hai

 


 

फ़साना जब्र का यारों की तरह क्यूँ ‘मजरूह’
मज़ा तो जब है कि जो कहिए बरमला कहिए

fasaana jabr ka yaaron kee tarah kyoon majarooh
maza to jab hai ki jo kahie baramala kahie

 


 

जिस हाथ में है तेग़-ए-जफ़ा उस का नाम लो
‘मजरूह’ से तो साए को क़ातिल कहा न जाए

jis haath mein hai teg-e-jafa us ka naam lo
majarooh se to sae ko qaatil kaha na jae

 


hindi shayari | Urdu shayari

Hindi shayari | Urdu shayari

Hindi shayari | Urdu shayari


here is hindi hain hum collction of hindi shayari, urdu shayari, majrooh sultanpuri 2 line shayari, majrooh sahab ke sher, majrooh sultanpuri in hindi shayari, majrooh movie, majnu sultanpuri, majnu sultanpuri songs and many more.

इन्हें भी पढ़ें :-

WASIM BARELVI SHAYARI | वसीम बरेलवी के बेहतरीन शेर

ALLAMA IQBAL SHAYARI | IQBAL SHAYARI | IQBAL POETRY

MIRZA GHALIB SHAYARI IN HINDI

Motivational Shayari Video| Gulzar poetry in hindi


 

You may also like