Home शायरीinsaniyat shayari सबसे बेहतरीन इंसानियत शायरी | insaniyat shayari in hindi | insaniyat status

सबसे बेहतरीन इंसानियत शायरी | insaniyat shayari in hindi | insaniyat status

by piyush Hindustani
Best Shayari On Insaniyat

इंसानियत दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण या यूँ कहें की दुनिया को चलने वाला शब्द। इंसानियत पे ही दुनिया कायम है ये तो आपने सुना ही होगा और इंसानियत को जब शब्दों में पिरोकर insaniyat shayari के जरिये परोसा जाता है तो ये और भी खूबसूरत हो जाती है और लोगो में इंसानियत का जस्बा भर जाता है।

insaniyat status को लगाने से इंसान के चरित्र का पता चलता है की वह किस तरह का इंसान है और क्या सोचता है। insaniyat status in hindi और insaniyat ki shayari आजकल खूब चलन है और लोग इंटरनेट पे भी इंसानियत शायरी को खूब सर्च करतें है और hindi shayari status लगाते है ताकि लोगो को अपने अंदर की इंसानियत को महसूस करा सके।

आज hindi hain hum आप सभी लोगो के लिए लाया है insaniyat shayari in hindi और insaniyat status hindi का एक इंसानियत से लबरेज़ शानदार कलेक्शन जो आपको सोचने पर मज़बूर कर देगा और आप इसे अपना इंसानियत स्टेटस जरूर लगायेंगें।

 


insaniyat shayari

insaniyat shayari

insaniyat shayari


आइना कोई ऐसा बना दे, ऐ खुदा जो,
इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे।

aaina koi aisa bana de, ai khuda jo,
insaan ka chehara nahin kiradaar dikha de.

 


 

पहले ज़मीं बँटी फिर घर भी बँट गया,
इंसान अपने आप में कितना सिमट गया।

pahale zamin banti phir ghar bhi bant gaya,
insaan apane aap mein kitana simat gaya.

 


 

प्यार की चाँदनी में खिलते हैं
दश्त-ए-इंसानियत के फूल हैं हम

pyaar ki chaandani mein khilate hain
dasht-e-insaaniyat ke phul hain ham

 


 

आदमी का आदमी हर हाल में हमदर्द हो
इक तवज्जोह चाहिए इंसाँ को इंसाँ की तरफ़

aadami ka aadami har haal mein hamadard ho
ik tavajjoh chaahie insaan ko insaan ki taraf

 


 

इंसाँ की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद।

insaan ki khvaahishon ki koi intiha nahin,
do gaz zamin bhi chaahie do gaz kafan ke baad.

 


 

ऐ आसमान तेरे ख़ुदा का नहीं है ख़ौफ़
डरते हैं ऐ ज़मीन तिरे आदमी से हम।

ai aasamaan tere khuda ka nahin hai khauf
darate hain ai zamin tire aadami se ham.

 


insaniyat status

insaniyat status

insaniyat status


​​हमारी आरजूओं ने हमें इंसान बना डाला​,
​वरना जब जहां में आये थे बन्दे ​​​थे खुदा के​।​

hamaari aarajuon ne hamen insaan bana daala​,
​varana jab jahaan mein aaye the bande ​​​the khuda ke​.

 


 

दिल के मंदिरों में कहीं बंदगी नहीं करते,
पत्थर की इमारतों में खुदा ढूंढ़ते हैं लोग।

dil ke mandiron mein kahin bandagi nahin karate,
patthar ki imaaraton mein khuda dhundhate hain log.

 


 

मज़हबी बहस मैंने की ही नहीं
फ़ालतू अक़्ल मुझमें थी ही नहीं

mazahabi bahas mainne ki hi nahin
faalatu aql mujhamen thi hi nahin

 


 

जिन्हें महसूस इंसानों के रंजो-गम नहीं होते,
वो इंसान भी हरगिज पत्थरों से कम नहीं होते।

jinhen mahasus insaanon ke ranjo-gam nahin hote,
vo insaan bhi haragij pattharon se kam nahin hote.

 


 

फितरत सोच और हालात में फर्क है वरना,
इन्सान कैसा भी हो दिल का बुरा नहीं होता।

phitarat soch aur haalaat mein phark hai varana,
insaan kaisa bhi ho dil ka bura nahin hota.

 


 

चंद सिक्कों में बिकता है यहाँ इंसान का ज़मीर,
कौन कहता है मेरे मुल्क में महंगाई बहुत है।

chand sikkon mein bikata hai yahaan insaan ka zamir,
kaun kahata hai mere mulk mein mahangai bahut hai.

 


 

बहुत हैं सज्दा-गाहें पर दर-ए-जानाँ नहीं मिलता
हज़ारों देवता हैं हर तरफ़ इंसाँ नहीं मिलता।

bahut hain sajda-gaahen par dar-e-jaanaan nahin milata
hazaaron devata hain har taraf insaan nahin milata.

 


insaniyat ki shayari

insaniyat ki shayari

insaniyat ki shayari


जिस्म की सारी रगें तो स्याह खून से भर गयी हैं,
फक्र से कहते हैं फिर भी हम कि हम इंसान हैं।

jism ki saari ragen to syaah khun se bhar gayi hain,
phakr se kahate hain phir bhi ham ki ham insaan hain.

 


 

हम खुदा थे गर न होता दिल में कोई मुद्दा,
आरजूओं ने हमारी हमको बंदा कर दिया।

ham khuda the gar na hota dil mein koi mudda,
aarajuon ne hamaari hamako banda kar diya.

 


 

इन्सानियत की रौशनी गुम हो गई कहाँ,
साए तो हैं आदमी के मगर आदमी कहाँ?

insaaniyat ki raushani gum ho gai kahaan,
sae to hain aadami ke magar aadami kahaan?

 


 

क्या-क्या ग़ुबार उठाए नज़र के फ़साद ने
इंसानियत की लौ कभी मद्धम न हो सकी

kya-kya gubaar uthae nazar ke fasaad ne
insaaniyat ki lau kabhi maddham na ho saki

 


 

देखें करीब से तो भी अच्छा दिखाई दे,
इक आदमी तो शहर में ऐसा दिखाई दे।

dekhen karib se to bhi achchha dikhai de,
ik aadami to shahar mein aisa dikhai de.

 


 

यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे।

yahaan libaas ki qimat hai aadami ki nahin,
mujhe gilaas bade de sharaab kam kar de.

 


insaniyat status in hindi

insaniyat status in hindi

insaniyat status in hindi


मेरी जबान के मौसम बदलते रहते हैं,
मैं तो आदमी हूँ मेरा ऐतबार मत करना।

meri jabaan ke mausam badalate rahate hain,
main to aadami hun mera aitabaar mat karana.

 


 

रखते हैं जो औरों के लिए प्यार का जज्बा
वो लोग कभी टूट कर बिखरा नहीं करते

rakhate hain jo auron ke lie pyaar ka jajba
vo log kabhi tut kar bikhara nahin karate

 


 

खुदा न बदल सका आदमी को आज भी यारों,
और आदमी ने सैकड़ो खुदा बदल डाले।

khuda na badal saka aadami ko aaj bhi yaaron,
aur aadami ne saikado khuda badal daale.

 


 

मेरी जबान के मौसम बदलते रहते हैं,
मैं तो आदमी हूँ मेरा ऐतबार मत करना।

meri jabaan ke mausam badalate rahate hain,
main to aadami hun mera aitabaar mat karana.

 


 

हर आदमी होते हैं दस बीस आदमी
जिसको भी देखना कई बार देखना।

har aadami hote hain das bis aadami
jisako bhi dekhana kai baar dekhana

 


 

बनाया ऐ ‘ज़फ़र’ ख़ालिक़ ने कब इंसान से बेहतर
मलक को देव को जिन को परी को हूर ओ ग़िल्माँ को

banaaya ai zafar khaaliq ne kab insaan se behatar
malak ko dev ko jin ko pari ko hur o gilmaan ko

 


insaniyat shayari in hindi

insaniyat shayari in hindi

insaniyat shayari in hindi


 

इस दौर में इंसान का चेहरा नहीं मिलता
कब से मैं नक़ाबों की तहें खोल रहा हूँ।

is daur mein insaan ka chehara nahin milata
kab se main naqaabon ki tahen khol raha hun.

 


 

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला

gharon pe naam the naamon ke saath ohade the
bahut talaash kiya koi aadami na mila

 


 

इसीलिए तो यहाँ अब भी अजनबी हूँ मैं
तमाम लोग फ़रिश्ते हैं आदमी हूँ मैं।

isilie to yahaan ab bhi ajanabi hun main
tamaam log farishte hain aadami hun main.

 


 

कोई हिन्दू कोई मुस्लिम कोई ईसाई है
सब ने इंसान न बनने की क़सम खाई है

koi hindu koi muslim koi isai hai
sab ne insaan na banane ki qasam khai hai

 


best 2 line hindhi shayari

best 2 line hindhi shayari

best 2 line hindhi shayari


नई मंज़िल नया जादू उजाला ही उजाला
दूर तक इंसानियत का बोल-बाला

nai manzil naya jaadu ujaala hi ujaala
dur tak insaaniyat ka bol-baala

 


 

बुरा बुरे के अलावा भला भी होता है
हर आदमी में कोई दूसरा भी होता है

bura bure ke alaava bhala bhi hota hai
har aadami mein koi dusara bhi hota hai

 


 

इल्म-ओ-अदब के सारे खजाने गुजर गए,
क्या खूब थे वो लोग पुराने गुजर गए,
बाकी है बस जमीं पे आदमी की भीड़,
इंसान को मरे हुए तो ज़माने गुजर गए।

ilm-o-adab ke saare khajaane gujar gae,
kya khub the vo log puraane gujar gae,
baaki hai bas jamin pe aadami ki bhid,
insaan ko mare hue to zamaane gujar gae.

 


two line hindi shayari

two line hindi shayari

two line hindi shayari

here is hindi hain hum collection of hindi shayari , 2 line shayari, insaniyat shayari in urdu, insaniyat ki shayari in hindi, insaniyat urdu shayari, insaniyat ke status, shayari for insaniyat, shayari on insaniyat in urdu, poetry on insaniyat in urdu, insaniyat sms, urdu poetry on insaniyat, shayari insaniyat ki, 2 line shayari on insaniyat, insaniyat shayari in hindi font, insaniyat shayari urdu, urdu shayari insaniyat and many more.

आपके लिए खास: ये भी पढ़े

Desh Bhakti Shayari | देशभक्ति शायरी
desh bhakti quotes | जोश भर देने वाले देशभक्ति कोट्स
anamol subichar | ज़िन्दगी बदल देने वाले अनमोल सुविचार
hindi shayari on positive attitude | जिंदगी बदल देने वाले positive Status
SAD POETRY IN URDU | SAD URDU SHAYARI
LOVE COUPLE SHAYARI WITH IMAGE | COUPLE SHAYARI
TANHAI SHAYARI IN HINDI | तन्हाई शायरी

VIDEO

चलते ही रहना यही जिंदगी है Motivational shayari Video


 

You may also like