Home शायरीDesh Bhakti Shayari 101+जोश भर देने वाली देशभक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari

101+जोश भर देने वाली देशभक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari

by piyush Hindustani
desh bhakti Geet

जब भी देश की बात आती है हमारा दिलो-दिमाग जोश और देशभक्ति से भर जाता है फिर तो देश और उसके सम्मान के आगे कुछ नहीं सूझता और फ़क़्र से हमारा सर ऊपर उठाकर तिरंगे को सलाम करता है, हम अपने आप desh bhakti shayari और desh bhakti kavita गुनगुनाने लगते है। 15 August(Independence Day) और 26 January(Republic Day) के दिन हम देशभक्ति के रंग में शराबोर रहते है और desh bhakti shayari और desh bhakti geet को खूब पढ़ते और शेयर करते है।

इसी क्रम में आज hindi hain hum आपके लिए लाया है desh bhakti shayari in hindi और desh bhakti kavita का एक जोश भर देने वाला कलेक्शन जिसे पढ़ कर आप फ़क़्र महसूस करेंगे और शेयर किये बिना नहीं रह पाएंगे क्योकि ये दुनिया की सबसे अच्छी देशभक्ति शायरी का एक शानदार कलेक्शन है।


desh bhakti shayari

desh bhakti shayari

desh bhakti shayari


 

दिल में जूनून आँखों में देशभक्ति की चमक रखता हूँ,
दुश्मन की जान निकल जाए आवाज में इतनी दमक रखता हूँ।

???????? ???????? ????????

dil mein joonoon aankhon mein deshabhakti ki chamak rakhata hoon,
dushman ki jaan nikal jae aavaaj mein itani damak rakhata hoon.

 


 

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

???????? ???????? ????????

kisi gajare ki khushabu ko mahakata chhod aaya hoon,
meri nanhi si chidiya ko chahakata chhod aaya hoon,
mujhe chhaati se apani too laga lena ai bhaarat maan,
main apani maan ki baahon ko tarasata chhod aaya hoon.

 


 

वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है,
मरेगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं!

???????? ???????? ????????

vatan ki mohabbat mein khud ko tapaaye baithe hai,
marege vatan ke lie shart maut se lagaaye baithe hain!

 


 

तीन रंग का वस्त्र नही, ये ध्वज देश की शान है,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान है,
यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान है
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं।

???????? ???????? ????????

tin rang ka vastr nahi, ye dhvaj desh ki shaan hai,
har bhaaratiy ke dilo ka svaabhimaan hai,
yahi hai ganga, yahi hain himaalay, yahi hind ki jaan hai
aur tin rangon mein ranga hua ye apana hindustaan hain.

 


 

लिख रहा हूँ मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा.

???????? ???????? ????????

likh raha hoon main anjaam, jisaka kal aagaaj aaega,
mere lahoo ka har ek katara inkalaab laega

 


जोश भर देने वाली देशभक्ति शायरी

josh bhar dene wali desh bhakti shayari

josh bhar dene wali desh bhakti shayari


 

ना सरकार मेरी है ना रौब मेरा है,
ना बड़ा सा नाम मेरा है,
मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है,
मै हिन्दुस्तान का हूँ और हिन्दुस्तान मेरा है,

???????? ???????? ????????

na sarakaar meri hai na raub mera hai,
na bada sa naam mera hai,
mujhe to ek chhoti si baat ka gaurav hai,
mai hindustaan ka hoon aur hindustaan mera hai,

 


 

जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं,
जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं.

???????? ???????? ????????

jo ab tak na khaula vo khoon nahi paani hain,
jo desh ke kaam na aaye vo bekaar javaani hain.

 


 

लड़ें वो बीर जवानों की तरह,
ठंडा खून फ़ौलाद हुआ,
मरते-मरते भी कईं मार गिराए,
तभी तो देश आज़ाद हुआ.

???????? ???????? ????????

laden vo bir javaanon ki tarah,
thanda khoon faulaad hua,
marate-marate bhi kain maar girae,
tabhi to desh aazaad hua.

 


 

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है,
उछ्ल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी।

???????? ???????? ????????

lahoo vatan ke shahidon ka rang laaya hai,
uchhl raha hai zamaane mein naam-e-aazaadi.

 


 

है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर,
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं,
है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय,
जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं.

???????? ???????? ????????

hai naman unako ki jo yashakaay ko amaratv dekar,
is jagat mein shaury ki jivit kahaani ho gaye hain,
hai naman unako jinake saamane bauna himaalay,
jo dhara par gir pade par aasamaani ho gaye hain.

 


 

वतन की ख़ाक ज़रा एड़ियां रगड़ने दे,
मुझे यक़ीन है पानी यहीं से निकलेगा।

???????? ???????? ????????

vatan ki khaak zara ediyaan ragadane de,
mujhe yaqin hai paani yahin se nikalega.

 


 

कुछ पन्ने इतिहास के
मेरे मुल्क के सीने में शमशीर हो गएँ,
जो लड़े, जो मरे वो शहीद हो गएँ,
जो डरे, जो झुके वो वजीर हो गएँ.

???????? ???????? ????????

kuchh panne itihaas ke
mere mulk ke sine mein shamashir ho gaen,
jo lade, jo mare vo shahid ho gaen,
jo dare, jo jhuke vo vajir ho gaen.

 


desh bhakti kavita

desh bhakti kavita

desh bhakti kavita


 

दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगें,
आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें.

???????? ???????? ????????

dushman ki goliyon ka ham saamana karengen,
aajaad hain aur aajaad hi rahengen.

 


 

गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा,
चमक रहा आसमान में देश का सितारा,
आजादी के दिन आओ मिलकर करें दुआ,
की बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा।

???????? ???????? ????????

goonj raha hai duniya mein bhaarat ka nagaada,
chamak raha aasamaan mein desh ka sitaara,
aajaadi ke din aao milakar karen dua,
ki bulandi par laharaata rahe tiranga hamaara.

 


 

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नही !
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नही!!

???????? ???????? ????????

apani aajaadi ko ham haragij mita sakate nahi !
sar kata sakate hain lekin sar jhuka sakate nahi!!

 


 

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये

???????? ???????? ????????

mujhe na tan chaahie, na dhan chaahie
bas aman se bhara yah vatan chaahie
jab tak jinda rahoon, is maatr-bhoomi ke lie
aur jab marun to tiranga kafan chaahiye

 


 

भारत की फ़जाओं को सदा याद रहूँगा,
आज़ाद था, आज़ाद हूँ, आज़ाद रहूँगा.

???????? ???????? ????????

bhaarat ki fajaon ko sada yaad rahoonga,
aazaad tha, aazaad hoon, aazaad rahoonga.

 


 

कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को,
जा कर ख़ुदा के घर से अब आया न जाएगा,
हमने लगाई आग हैं जो इंकलाब की,
इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा.

???????? ???????? ????????

kahate hain alavida ham ab is jahaan ko,
ja kar khuda ke ghar se ab aaya na jaega,
hamane lagai aag hain jo inkalaab ki,
is aag ko kisi se bujhaaya na jaega.

 


 

दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की नफरत,
मेरी मिटटी से भी खुशबू-ए-वफ़ा आयेगी।

???????? ???????? ????????

dil se nikalegi na mar kar bhi vatan ki napharat,
meri mitati se bhi khushaboo-e-vafa aayegi.

 


 

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा
ये मुल्क मेरी जान है
इसकी रक्षा के लिए
मेरा दिल और जां कुर्बान है

???????? ???????? ????????

main mulk ki hiphaajat karoonga
ye mulk meri jaan hai
isaki raksha ke lie
mera dil aur jaan kurbaan hai

 


 

यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा,
ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा।

???????? ???????? ????????

yahin rahoonga kahin umr bhar na jaunga,
zamin maan hai ise chhod kar na jaoonga.

 


 

खूब बहती हैं अमन की गंगा बहने दो,
मत फैलाओ देश में दंगा अमन—चैन रहने दो,
लाल हरे रंग में ना बाटो हमको,
मेरे छत पर एक तिरंगा रहने दो.

???????? ???????? ????????

khoob bahati hain aman ki ganga bahane do,
mat phailao desh mein danga aman—chain rahane do,
laal hare rang mein na baato hamako,
mere chhat par ek tiranga rahane do.

 


 

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मरने वालो का यही बाकि निशां होंगा.

???????? ???????? ????????

shahidon ki chitaon par lagenge har baras mele,
vatan pe marane vaalo ka yahi baaki nishaan honga.

 


 

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये

???????? ???????? ????????

ai mere vatan ke logon tum khoob laga lo naara
ye shubh din hai ham sab ka lahara lo tiranga pyaara
par mat bhoolo sima par viron ne hai praan ganvae
kuchh yaad unhen bhi kar lo jo laut ke ghar na aaye

 


desh bhakti shayari in hindi

desh bhakti shayari in hindi

desh bhakti shayari in hindi


 

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं,
तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहचान हैं.

???????? ???????? ????????

aan desh ki shaan desh ki, desh ki ham santaan hain,
tin rangon se ranga tiranga apani ye pahachaan hain.

 


 

 यदि प्रेरणा शहीदों से नहीं लेंगे तो
ये आजादी ढलती हुई साँझ हो जायेगी
और पूजे न गए वीर तो
सच कहता हूँ कि नौजवानी बाँझ हो जायेगी.

???????? ???????? ????????

yadi prerana shahidon se nahin lenge to
ye aajaadi dhalati hui saanjh ho jaayegi
aur pooje na gae vir to
sach kahata hoon ki naujavaani baanjh ho jaayegi.

 


 

भारत माता के लिए मर मिटना कबूल है मुझे,
अखंड भारत बनाने का… जूनून है मुझे।

???????? ???????? ????????

bhaarat maata ke lie mar mitana kabool hai mujhe,
akhand bhaarat banaane ka… joonoon hai mujhe.

 


 

फना होने की इज़ाजत ली नहीं जाती,
ये वतन की मोहब्बत है जनाब…
पूछ के नहीं की जाती.

???????? ???????? ????????

phana hone ki izaajat li nahin jaati,
ye vatan ki mohabbat hai janaab…
poochh ke nahin ki jaati.

 


 

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह,
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह।

???????? ???????? ????????

hava dukhon ki jab aai kabhi khizaan ki tarah,
mujhe chhupa liya mitti ne meri maan ki tarah.

 


 

गीले चावल में शक्कर क्या गिरी,
तुम भिखारी खीर समझ बैठे,
चंद कुत्तो ने पाकिस्तान जिंदाबाद क्या बोला,
तुम कश्मीर को अपने बाप की ज़ागीर समझ बैठे.

???????? ???????? ????????

gile chaaval mein shakkar kya giri,
tum bhikhaari khir samajh baithe,
chand kutto ne paakistaan jindaabaad kya bola,
tum kashmir ko apane baap ki zaagir samajh baithe.

 


 

लिपट कर बदन कई तिरंगे में आज भी आते हैं,
यूँ ही नहीं दोस्तों हम ये पर्व मनाते हैं.

???????? ???????? ????????

lipat kar badan kai tirange mein aaj bhi aate hain,
yoon hi nahin doston ham ye parv manaate hain.

 


ये भी पढ़े: दुनिया की सबसे बेहतरीन देशभक्ति शायरी का कलेक्शन


 

ऐ पाक, तेरा ख़्वाब नजारा ही रहेगा,
तू क़िस्मत का मारा है मारा ही रहेगा,
तेरे हर सवाल का जबाब करारा ही रहेगा,
कश्मीर हमारा हैं और हमारा ही रहेगा.

???????? ???????? ????????

ai paak, tera khvaab najaara hi rahega,
too qismat ka maara hai maara hi rahega,
tere har savaal ka jabaab karaara hi rahega,
kashmir hamaara hain aur hamaara hi rahega.

 


 

भरा नही जो भावों से बहती जिसमें रसधार नही,
हृदय नही वह पत्थर हैं, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं.

???????? ???????? ????????

bhara nahi jo bhaavon se bahati jisamen rasadhaar nahi,
hrday nahi vah patthar hain, jisamen svadesh ka pyaar nahin.

 


 

खून से खेलेंगे होली,
अगर वतन मुश्किल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना
अब हमारे दिल में है,

???????? ???????? ????????

khoon se khelenge holi,
agar vatan mushkil mein hai
sarafaroshi ki tamanna
ab hamaare dil mein hai,

 


 

शहीदों के त्याग को हम बदनाम नही होने देंगे,
भारत की इस आजादी की कभी शाम नही होने देंगे.

???????? ???????? ????????

shahidon ke tyaag ko ham badanaam nahi hone denge,
bhaarat ki is aajaadi ki kabhi shaam nahi hone denge.

 


 

तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं,
यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं,
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं.

???????? ???????? ????????

tin rang ka nahi vastr, ye dhvaj desh ki shaan hain,
har bhaaratiy ke dilo ka svaabhimaan hain,
yahi hai ganga, yahi hain himaalay, yahi hind ki jaan hain,
aur tin rangon mein ranga hua ye apana hindustaan hain.

 


 

तिरंगे ने मायूस होकर “सरकार” से पूछा कि ये क्या हो रहा हैं,
मेरा लहराने में कम और कफन में ज्यादा इस्तेमाल हो रहा हैं.

???????? ???????? ????????

tirange ne maayoos hokar “sarakaar” se poochha ki ye kya ho raha hain,
mera laharaane mein kam aur kaphan mein jyaada istemaal ho raha hain.

 


देशभक्ति शायरी (Desh Bhakti Shayari)

देशभक्ति शायरी - Desh Bhakti Shayari

देशभक्ति शायरी – Desh Bhakti Shayari


 

दाबोगे अगर और उभर आयेगा भारत,
हर वार पर कुछ और निखर जायेगा भारत
दस-बीस जाहिलों को ग़लतफ़हमी हुई है,
कि दो-चार धमाको से ही डर जायेगा भारत.

???????? ???????? ????????

daaboge agar aur ubhar aayega bhaarat,
har vaar par kuchh aur nikhar jaayega bhaarat
das-bis jaahilon ko galatafahami hui hai,
do-chaar dhamaako se hi dar jaayega bhaarat.

 


 

चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाए,
मेरी हर साँस देश के नाम हो जाए,

???????? ???????? ????????

chaahata hoon koi nek kaam ho jae,
meri har saans desh ke naam ho jae,

 


 

इस तिरंगे को कभी मत तुम झुकने देना,
देश की बढ़ती शान को तुम कभी न रुकने देना,
यही अरमान है बस अब इस दिल में,
कि ऐसे ही आगे तुम बढ़ते रहना।

???????? ???????? ????????

is tirange ko kabhi mat tum jhukane dena,
desh ki badhati shaan ko tum kabhi na rukane dena,
yahi aramaan hai bas ab is dil mein,
ki aise hi aage tum badhate rahana.

 


 

हँसते-हँसते फाँसी चढ़कर अपनी जान गवा दी,
और बदले में दे दी ये पावन आजादी.

???????? ???????? ????????

hansate-hansate phaansi chadhakar apani jaan gava di,
aur badale mein de di ye paavan aajaadi.

 


 

भारत का वीर जवान हूँ मैं,
ना हिन्दू, ना मुसलमान हूँ मैं,
जख्मो से भरा सीना हैं मगर,
दुश्मन के लिए चट्टान हूँ मैं,
भारत का वीर जवान हूँ मैं.

???????? ???????? ????????

bhaarat ka vir javaan hoon main,
na hindoo, na musalamaan hoon main,
jakhmo se bhara sina hain magar,
dushman ke lie chattaan hoon main,
bhaarat ka vir javaan hoon main.

 


 

मन को खुद ही मगन कर लो,
कभी-कभी शहीदों को भी नमन कर लो.

???????? ???????? ????????

man ko khud hi magan kar lo,
kabhi-kabhi shahidon ko bhi naman kar lo.

 


 

चलो फिर से खुद को जगाते हैं,
अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं,
सुनहरा रंग हैं गणतंत्र का,
शहीदों के लहूँ से,
ऐसे शहीदों को हम सर झुकाते हैं.

???????? ???????? ????????

chalo phir se khud ko jagaate hain,
anushaasan ka danda phir ghumaate hain,
sunahara rang hain ganatantr ka,
shahidon ke lahoon se,
aise shahidon ko ham sar jhukaate hain.

 


 

दिवाली में बसे “अली”, रमजान में बसे “राम”,
ऐसा सुंदर होना चाहिए अपना हिन्दुस्तान.

???????? ???????? ????????

diwaali mein base “ali”, ramajaan mein base “raam”,
aisa sundar hona chaahie apana hindustaan.

 


 

आओ झुककर सलाम करे उनको,
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,
खुशनसीब होते हैं वो लोग,
जिनका लहू इस देश के काम आता है.

???????? ???????? ????????

aao jhukakar salaam kare unako,
jinake hisse mein ye mukaam aata hai,
khushanasib hote hain vo log,
jinaka lahoo is desh ke kaam aata hai.

 


 

कर हौसले बुलंद जबान, तेरे पीछे है अवाम,
दुश्मनो को मार गिराएंगे, जो हमसे देश बटबायेंगे।

???????? ???????? ????????

kar hausale buland jabaan, tere pichhe hai avaam,
dushmano ko maar giraenge, jo hamase desh batabaayenge.

 


 

उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई,
उनकी शहादत का कर्ज देश पर उधार हैं,
आप और हम इसलिए खुशहाल हैं
क्योकि सीमा पे सैनिक शहादत को तैयार हैं.

???????? ???????? ????????

unake hausale ka bhugataan kya karega koi,
unaki shahaadat ka karj desh par udhaar hain,
aap aur ham isalie khushahaal hain
kyoki sima pe sainik shahaadat ko taiyaar hain.

 


 

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नही !
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नही!!

???????? ???????? ????????

apani aajaadi ko ham haragij mita sakate nahi !
sar kata sakate hain lekin sar jhuka sakate nahi!!

 


देशभक्ति गीत | देशभक्ति कविता

देशभक्ति गीत | देशभक्ति कविता

देशभक्ति गीत  | देशभक्ति कविता


 

गूँजे कहीं पर शंख,
कही पे अजाँ हैं,
बाइबिल है, ग्रन्थ साहब है,
गीता का ज्ञान हैं,
दुनिया में खी और यह मंजर नसीब नही,
दिखाओ जमाने को यह हिन्दुस्तान हैं.

???????? ???????? ????????

goonje kahin par shankh,
kahi pe ajaan hain,
baibil hai, granth saahab hai,
gita ka gyaan hain,
duniya mein khi aur yah manjar nasib nahi,
dikhao jamaane ko yah hindustaan hain.

 


 

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें, भी परेशान हो जाएँ,
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुसलमान हो जाएँ.

???????? ???????? ????????

ye ped ye patte ye shaakhen, bhi pareshaan ho jaen,
agar parinde bhi hindoo aur musalamaan ho jaen.

 


 

फिर उड़ गई नींद मेरी यह सोचकर,
कि जो शहीदों का बहा वो खून
मेरी नींद के लिए था.

???????? ???????? ????????

phir ud gai nind meri yah sochakar,
ki jo shahidon ka baha vo khoon
meri nind ke lie tha.

 


 

चिंगारी आजादी की सुलगी मेरे जश्न में हैं,
इन्कलाब की ज्वालाएं लिपटी मेरे बदन में हैं,
मौत जहाँ जन्नत हो ये बात मेरे वतन में हैं,
कुर्बानी का जज्बा जिन्दा मेरे कफन में हैं.

???????? ???????? ????????

chingaari aajaadi ki sulagi mere jashn mein hain,
inkalaab ki jvaalaen lipati mere badan mein hain,
maut jahaan jannat ho ye baat mere vatan mein hain,
kurbaani ka jajba jinda mere kaphan mein hain.

 


 

अलग है भाषा, धरम, जात और प्रान्त, भेष, परिवेश
पर सबका एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ.

???????? ???????? ????????

alag hai bhaasha, dharam, jaat aur praant, bhesh, parivesh
par sabaka ek hai gaurav raashtradhvaj tiranga shreshth.

 


 

बस ये बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाए रखना,
लहू देकर भी जिसकी हिफाजत की शहीदों ने,
उस तिरंगे को सदा दिल में बसायें रखना.

???????? ???????? ????????

bas ye baat havaon ko bataaye rakhana,
raushani hogi chiraagon ko jalae rakhana,
lahoo dekar bhi jisaki hiphaajat ki shahidon ne,
us tirange ko sada dil mein basaayen rakhana.

 


उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं,
जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल-सूत्र उतारे हैं.

???????? ???????? ????????

un aankhon ki do boondon se saaton saagar haare hain,
jab mehandi vaale haathon ne mangal-sootr utaare hain.


 

मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है,
है दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान,
अपने तो दिल में है दोस्त,
बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान.

???????? ???????? ????????

main muslim hoon, too hindoo hai,
hai donon insaan,
la main teri gita padh loon, too padh le kuraan,
apane to dil mein hai dost,
bas ek hi aramaan,
ek thaali mein khaana khae saara hindustaan.

 


 

अनेकता में एकता ही इस देश की शान हैं,
इसलिए मेरा भारत देश महान हैं.

???????? ???????? ????????

anekata mein ekata hi is desh ki shaan hain,
isalie mera bhaarat desh mahaan hain.

 


 

किसी को लगता हैं हिन्दू ख़तरे में हैं,
किसी को लगता मुसलमान ख़तरे में हैं,
धर्म का चश्मा उतार कर देखो यारों,
पता चलेगा हमारा हिंदुस्तान ख़तरे में हैं.

???????? ???????? ????????

kisi ko lagata hain hindoo khatare mein hain,
kisi ko lagata musalamaan khatare mein hain,
dharm ka chashma utaar kar dekho yaaron,
pata chalega hamaara hindustaan khatare mein hain.

 


desh bhakti Geet

desh bhakti Geet

desh bhakti Geet


 

वो तिरंगे वाले DP हो तो लगा लेना…
भाई जी…
सुना है कल देशभक्ति दिखने
वाली तारीख हैं.

???????? ???????? ????????

vo tirange vaale dp ho to laga lena…
bhai ji…
suna hai kal deshabhakti dikhane
vaali taarikh hain.

 


 

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं,
देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में हैं,
वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां,
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं.

???????? ???????? ????????

sarapharoshi ki tamanna ab hamaare dil mein hain,
dekhana hain jor kitan baajoo-e-kaatil mein hain,
vakt aane de bata denge tujhe e aasamaan,
ham abhi se kya bataen kya hamaare dil mein hain.

 


 

मैं जला हुआ राख नही, अमर दीप हूँ,
जो मिट गया वतन पर, मैं वो शहीद हूँ.

???????? ???????? ????????

main jala hua raakh nahi, amar dip hoon,
jo mit gaya vatan par, main vo shahid hoon.

 


 

कुछ नशा तिरंगे की आन का हैं,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का हैं,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का हैं.

???????? ???????? ????????

kuchh nasha tirange ki aan ka hain,
kuchh nasha maatrbhoomi ki shaan ka hain,
ham laharaayenge har jagah ye tiranga,
nasha ye hindustaan ki shaan ka hain.

 


 

दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त,
मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी.

???????? ???????? ????????

dil se mar kar bhi na nikalegi vatan ki ulfat,
mere mitti se bhi khushaboo-e-vatan aaegi.

 


 

आजदी की कभी शाम नही होने देंगे,
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नही होने देंगे,
बची हो जो की बूँद भी गर्म लहू की,
तब तक भारत का आंचल निलाम नही होने देंगे.

???????? ???????? ????????

aajadi ki kabhi shaam nahi hone denge,
shahidon ki kurbaani badanaam nahi hone denge,
bachi ho jo ki boond bhi garm lahoo ki,
tab tak bhaarat ka aanchal nilaam nahi hone denge.

 


 

शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो,
होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो.

???????? ???????? ????????

shamma-e-vatan ki lau par jab kurbaan patanga ho,
hothon par ganga ho aur haathon mein tiranga ho.

 


पढ़िए देशभक्ति शायरी का कलेक्शन

26 जनवरी की सबसे जबरदस्त शायरी

51 सबसे बेस्ट देशभक्ति शायरी

100+ जोश भर देने वाले देशभक्ति कोट्स

जोश भर देने वाली 15 अगस्त शायरी | 15 AUGUST STATUS

आओ फिर से दिया जलाएँ | ATAL BIHARI VAJPAYEE
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा DESH BHAKTI HINDI SHAYARI
DESH BHAKTI KAVITA मुसलमाँ और हिन्दू की जान कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान
स्वामी विवेकानंद के सबसे बेहतरीन कोट्स 
सुमित्रानंदन पंत की सबसे बेहतरीन कविताओं का संग्रह 
महादेवी वर्मा की सबसे बेहतरीन कविताओं का संग्रह 

Collection of deshbhakti Shayari

भारत के गद्दार | रोंगटे खड़े कर देने वाली देशभक्ति VIDEO

You may also like