Home व्हाट्सएप्प स्टेटसsad Status 2 line shayari in urdu | जबरदस्त और दिलकश उर्दू शायरी

2 line shayari in urdu | जबरदस्त और दिलकश उर्दू शायरी

by piyush Hindustani
2 line shayari in urdu

2 line shayari in urdu: दोस्तों, कभी कभी हैं दिन भर बात करे तब भी हम अपने दिल की बातें अपने चाहने वालों को नहीं बता पातें हैं, लेकिन आप अगर उर्दू शायरी के शौक़ीन है तो आप अपने दिल की बात urdu shayari में अपने चाहने वाले को 2 line shayari in urdu के जरिये बता सकते हैं।

two line urdu shayari और heart touching shayari in urdu की सबसे खाश बात है की बेहद कम शब्दों में आप बहुत कुछ कह जातें है और सामने वाला इम्प्रेस भी हो जाता है। इसीलिए hindi hain hum आपके लिए लेकर आया है urdu shayari in hindi और 2 line shayari in urdu का एक जबरदस्त और दिलकश कलेक्शन, तो पढ़िए और अपने दोस्तों और चाहने वालों को जरुर शेयर करें।

कहा जाता है कि उर्दू प्यार की भाषा है इसलिए उर्दू और हिंदी भाषा में ख़ूब शेर कहे गए हैं। हिंदी भाषा में हिंदी शायरी और उर्दू भाषा में उर्दू शायरी खूब लिखी गई है। तो आइये पेशे खिदमत है कुछ बेहतरीन चुनिंदा 2 line shayari in urdu.

 


जबरदस्त उर्दू शायरी

जबरदस्त उर्दू शायरी

जबरदस्त उर्दू शायरी


 

अजब चराग़ हूँ दिन रात जलता रहता हूँ,
मैं थक गया हूँ हवा से कहो बुझाए मुझे।

Ajab charaag hoon din raat jalata rahata hoon,
main thak gaya hoon hava se kaho bujhae mujhe.

 


 

दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं,
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं।

Dil mein kisee ke raah kie ja raha hoon main,
kitana haseen gunaah kie ja raha hoon main

 


 

आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है,
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है।

Aasaman itanee bulandee pe jo itaraata hai,
bhool jaata hai zameen se hee nazar aata hai.

 


 

बक रहा हूँ जुनूँ में क्या क्या कुछ,
कुछ न समझे ख़ुदा करे कोई।

Bak raha hoon junoon mein kya kya kuchh,
kuchh na samajhe khuda kare koee.

 


 

हम भी क्या ज़िंदगी गुज़ार गए,
दिल की बाज़ी लगा के हार गए।

Hum bhee kya zindagee guzaar gae,
dil kee baazee laga ke haar gae.

 


 

इस रास्ते के नाम लिखो एक शाम और,
या इस में रौशनी का करो इंतिज़ाम और।

Is raaste ke naam likho ek shaam aur,
ya is mein raushanee ka karo intizaam aur.

 


 

इंसान की ख्वाहिश की कोई इंतहा नहीं,
दो गज जमीन भी चाहिए दो गज कफन के बाद।

insaan ki khvaahish ki koi intaha nahin,
do gaj jamin bhi chaahie do gaj kaphan ke baad.

 


2 line shayari in urdu

2 line shayari in urdu

2 line shayari in urdu

 


ज़िंदगी दी हिसाब से उस ने
और ग़म बे-हिसाब लिक्खा है

zindagi di hisaab se us ne
aur gam be-hisaab likkha hai

 


 

किस तरह अपनी मोहब्बत की मैं तकमील करूँ
ग़म-ए-हस्ती भी तो शामिल है ग़म-ए-यार के साथ

kis tarah apani mohabbat ki main takamil karoon
gam-e-hasti bhi to shaamil hai gam-e-yaar ke saath

 


 

अगर मौजें डुबो देतीं तो कुछ तस्कीन हो जाती
किनारों ने डुबोया है मुझे इस बात का ग़म है

agar maujen dubo detin to kuchh taskin ho jaati
kinaaron ne duboya hai mujhe is baat ka gam hai

 


 

दुख दे या रुस्वाई दे
ग़म को मिरे गहराई दे

dukh de ya rusvai de
gam ko mire gaharai de

 


 

इक इश्क़ का ग़म आफ़त और उस पे ये दिल आफ़त
या ग़म न दिया होता या दिल न दिया होता

ik ishq ka gam aafat aur us pe ye dil aafat
ya gam na diya hota ya dil na diya hota

 


शिकवा-ए-ग़म तिरे हुज़ूर किया
हम ने बे-शक बड़ा क़ुसूर किया

shikava-e-gam tire huzoor kiya
ham ne be-shak bada qusoor kiya

 


 

बस एक झिझक है हाल-ए-दिल सुनाने में,
कि तेरा भी जिक्र आएगा मेरे इस फसाने में।

bas ek jhijhak hai haal-e-dil sunaane mein,
ki tera bhi jikr aaega mere is phasaane mein.

 


Urdu shayari in hindi

Urdu shayari - उर्दू शायरी

Urdu shayari – उर्दू शायरी

 


क्या कहूँ किस तरह से जीता हूँ
ग़म को खाता हूँ आँसू पीता हूँ

kya kahoon kis tarah se jita hoon
gam ko khaata hoon aansoo pita hoon

 


 

दिल को ग़म रास है यूँ गुल को सबा हो जैसे
अब तो ये दर्द की सूरत ही दवा हो जैसे

dil ko gam raas hai yoon gul ko saba ho jaise
ab to ye dard ki soorat hi dava ho jaise

 


 

हम को किस के ग़म ने मारा ये कहानी फिर सही
किस ने तोड़ा दिल हमारा ये कहानी फिर सही

ham ko kis ke gam ne maara ye kahaani phir sahi
kis ne toda dil hamaara ye kahaani phir sahi

 


 

ग़म-ए-दिल अब किसी के बस का नहीं
क्या दवा क्या दुआ करे कोई

gam-e-dil ab kisi ke bas ka nahin
kya dava kya dua kare koi

 


 

उन का ग़म उन का तसव्वुर उन के शिकवे अब कहाँ
अब तो ये बातें भी ऐ दिल हो गईं आई गई

un ka gam un ka tasavvur un ke shikave ab kahaan
ab to ye baaten bhi ai dil ho gain aai gai

 


 

ज़माने भर के ग़म या इक तिरा ग़म
ये ग़म होगा तो कितने ग़म न होंगे

zamaane bhar ke gam ya ik tira gam
ye gam hoga to kitane gam na honge

 


 

मैं रोना चाहता हूँ ख़ूब रोना चाहता हूँ मैं
फिर उस के बाद गहरी नींद सोना चाहता हूँ मैं

main rona chaahata hoon khoob rona chaahata hoon main
phir us ke baad gahari nind sona chaahata hoon main

 


 

रंज-ओ-ग़म दर्द-ओ-अलम ज़िल्लत-ओ-रुसवाई है
हम ने ये दिल के लगाने की सज़ा पाई है

ranj-o-gam dard-o-alam zillat-o-rusavai hai
ham ne ye dil ke lagaane ki saza pai hai

 


 

बरस पड़ती थी जो रुख से नकाब उठाने में,
वह चांदनी है अभी तक है मेरे गरीब खाने में।

baras padati thi jo rukh se nakaab uthaane mein,
vah chaandani hai abhi tak hai mere garib khaane mein.

 


two line urdu shayari 

two line urdu shayari - 2 Line Shayari

two line urdu shayari

 


मुसीबत और लम्बी ज़िंदगानी
बुज़ुर्गों की दुआ ने मार डाला

musibat aur lambi zindagaani
buzurgon ki dua ne maar daala

 


 

हाए वो राज़-ए-ग़म कि जो अब तक
तेरे दिल में मिरी निगाह में है

hae vo raaz-e-gam ki jo ab tak
tere dil mein miri nigaah mein hai

 


 

जब तुझे याद कर लिया सुब्ह महक महक उठी
जब तिरा ग़म जगा लिया रात मचल मचल गई

jab tujhe yaad kar liya subh mahak mahak uthi
jab tira gam jaga liya raat machal machal gai

 


 

बहर-ए-ग़म से पार होने के लिए
मौत को साहिल बनाया जाएगा

bahar-e-gam se paar hone ke lie
maut ko saahil banaaya jaega

 


 

ऐ ग़म-ए-ज़िंदगी न हो नाराज़
मुझ को आदत है मुस्कुराने की

ai gam-e-zindagi na ho naaraaz
mujh ko aadat hai muskuraane ki

 


 

कौन किसी का ग़म खाता है
कहने को ग़म-ख़्वार है दुनिया

kaun kisi ka gam khaata hai
kahane ko gam-khvaar hai duniya

 


 

मैं न कहता था कि मेरे घर में भी आएगी बहार,
शर्त बस इतनी थी कि पहले तुझे आना होगा।

main na kahata tha ki mere ghar mein bhi aaegi bahaar,
shart bas itani thi ki pahale tujhe aana hoga.

 


2 Line Shayari

urdu shayari in hindi

urdu shayari in hindi

 


मेरी क़िस्मत में ग़म गर इतना था
दिल भी या-रब कई दिए होते

meri qismat mein gam gar itana tha
dil bhi ya-rab kai die hote

 


 

ग़म अगरचे जाँ-गुसिल है प कहाँ बचें कि दिल है
ग़म-ए-इश्क़ गर न होता ग़म-ए-रोज़गार होता

gam agarache jaan-gusil hai pa kahaan bachen ki dil hai
gam-e-ishq gar na hota gam-e-rozagaar hota

 


 

उन का ग़म उन का तसव्वुर उन की याद
कट रही है ज़िंदगी आराम से

un ka gam un ka tasavvur un ki yaad
kat rahi hai zindagi aaraam se

 


 

ये किस मक़ाम पे लाई है ज़िंदगी हम को
हँसी लबों पे है सीने में ग़म का दफ़्तर है

ye kis maqaam pe lai hai zindagi ham ko
hansi labon pe hai sine mein gam ka daftar hai

 


 

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें

gam-e-duniya bhi gam-e-yaar mein shaamil kar lo
nashsha badhata hai sharaaben jo sharaabon mein milen

 


 

तकमील-ए-आरज़ू से भी होता है ग़म कभी
ऐसी दुआ न माँग जिसे बद-दुआ कहें

takamil-e-aarazoo se bhi hota hai gam kabhi
aisi dua na maang jise bad-dua kahen

 


 

सदा मजलूम की आहों से बचना,
यह कुछ कहती नहीं अपनी जुबान से।

sada majaloom ki aahon se bachana,
yah kuchh kahati nahin apani jubaan se.

 


urdu shayari in hindi 2 lines

urdu shayari in hindi 2 lines

urdu shayari in hindi 2 lines

 


पत्थर के जिगर वालो ग़म में वो रवानी है
ख़ुद राह बना लेगा बहता हुआ पानी है

patthar ke jigar vaalo gam mein vo ravaani hai
khud raah bana lega bahata hua paani hai

 


 

चिंगारियाँ न डाल मिरे दिल के घाव में
मैं ख़ुद ही जल रहा हूँ ग़मों के अलाव में

chingaariyaan na daal mire dil ke ghaav mein
main khud hi jal raha hoon gamon ke alaav mein

 


 

यूँ न किसी तरह कटी जब मिरी ज़िंदगी की रात
छेड़ के दास्तान-ए-ग़म दिल ने मुझे सुला दिया

yoon na kisi tarah kati jab miri zindagi ki raat
chhed ke daastaan-e-gam dil ne mujhe sula diya

 


 

अब तो ख़ुशी का ग़म है न ग़म की ख़ुशी मुझे
बे-हिस बना चुकी है बहुत ज़िंदगी मुझे

ab to khushi ka gam hai na gam ki khushi mujhe
be-his bana chuki hai bahut zindagi mujhe

 


 

ग़म की तौहीन न कर ग़म की शिकायत कर के
दिल रहे या न रहे अज़मत-ए-ग़म रहने दे

gam ki tauhin na kar gam ki shikaayat kar ke
dil rahe ya na rahe azamat-e-gam rahane de

 


 

दिल ना-उमीद तो नहीं नाकाम ही तो है
लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है

dil na-umid to nahin naakaam hi to hai
lambi hai gam ki shaam magar shaam hi to hai

 


 

इलाही एक ग़म-ए-रोज़गार क्या कम था
कि इश्क़ भेज दिया जान-ए-मुब्तला के लिए

ilaahi ek gam-e-rozagaar kya kam tha
ki ishq bhej diya jaan-e-mubtala ke lie

 


 

शोर यूँही न परिंदों ने मचाया होगा,
कोई जंगल की तरफ शहर से आया होगा।

shor yunhi na parindon ne machaaya hoga,
koi jangal ki taraph shahar se aaya hoga.

 


heart touching shayari in urdu | 2 line shayari in urdu

heart touching shayari in urdu

heart touching shayari in urdu


आपके लिए खास: ये भी पढ़े

गुलजार साहब की 100 सबसे बेहतरीन शायरी
romantic urdu shayari | प्यार वाली शायरी उर्दू में
Best Bewafa Shayari in Hindi | बेवफा शायरी कलेक्शन
anamol subichar | ज़िन्दगी बदल देने वाले अनमोल सुविचार
SAD POETRY IN URDU | SAD URDU SHAYARI
TWO LINE SHAYARI | दो लाइन शायरी हिंदी में | 2 LINE STATUS
दुनिया के 51 बेहतरीन शेर | BEST HINDI SHAYARI OF THE WORLD

VIDEO

मेरे प्यार की दीवानगी Best Love Shayari VIDEO


 

You may also like