Home शायरीTwo Line Shayari wasim barelvi shayari | वसीम बरेलवी के बेहतरीन शेर

wasim barelvi shayari | वसीम बरेलवी के बेहतरीन शेर

by piyush Hindustani
waseem barelvi poetry in urdu

वसीम बरेलवी का जन्म 8 फरवरी 1940 को अपने ननिहाल बरेली में हुआ था इनके बचपन का नाम ज़ाहिद हसन था। wasim barelvi के पिता जी का नाम शाहिद हसन था जो की मुरादाबाद नवाबपुर में एक ज़मीदार थे. मुरादाबाद के हालात बिगड़ने की वजह से उन्हें मुरादाबाद छोड़ कर अपने ससुराल बरेली आना पड़ा और यही वसीम बरेलवी का जन्म यही हुआ, बचपन से ही wasim barelvi shayari में काफी रूचि रखते थे और शायरिया लिखते और सुनते थे ।

wasim barelvi hindi shayari और Urdu shayari के एक प्रसिद्ध शायर है, waseem barelvi sher लोगो में काफी प्रचलित है और waseem barelvi poetry को लोग खूब पढ़ते और whatsapp status in hindi लगते है। इसी क्रम में hindi hain hum आप सबके लिए लाया है wasim barelvi poetry in hindi और waseem barelvi poetry in urdu का एक बेहद ही शानदार कलेक्शन जिससे आप वसीम बरेलवी के सबसे बेहतरीन शेर एक जगह सिर्फ हिंदी हैं हम पर पढ़ सकेंगे।

 


wasim barelvi shayari

"<yoastmark


आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है

aasamaan itanee bulandee pe jo itaraata hai
bhool jaata hai zameen se hee nazar aata hai

 


 

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएँ कैसे
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे

apane chehare se jo zaahir hai chhupaen kaise
teree marzee ke mutaabiq nazar aaen kaise

 


 

चराग़ घर का हो महफ़िल का हो कि मंदिर का
हवा के पास कोई मस्लहत नहीं होती

charaag ghar ka ho mahafil ka ho ki mandir ka
hava ke paas koee maslahat nahin hotee

 


 

जहाँ रहेगा वहीं रौशनी लुटाएगा
किसी चराग़ का अपना मकाँ नहीं होता

jahaan rahega vaheen raushanee lutaega
kisee charaag ka apana makaan nahin hota

 


 

वो मेरे घर नहीं आता मैं उस के घर नहीं जाता
मगर इन एहतियातों से तअल्लुक़ मर नहीं जाता

vo mere ghar nahin aata main us ke ghar nahin jaata
magar in ehatiyaaton se taalluq mar nahin jaata

 


 

दुख अपना अगर हम को बताना नहीं आता
तुम को भी तो अंदाज़ा लगाना नहीं आता

dukh apana agar ham ko bataana nahin aata
tum ko bhee to andaaza lagaana nahin aata

 


 

मैं भी उसे खोने का हुनर सीख न पाया
उस को भी मुझे छोड़ के जाना नहीं आता

main bhee use khone ka hunar seekh na paaya
us ko bhee mujhe chhod ke jaana nahin aata

 


 

हमारे घर का पता पूछने से क्या हासिल
उदासियों की कोई शहरियत नहीं होती

hamaare ghar ka pata poochhane se kya haasil
udaasiyon kee koee shahariyat nahin hotee

 


waseem barelvi shayari in hindi

waseem barelvi shayari in hindi

waseem barelvi shayari in hindi


तुम आ गए हो तो कुछ चाँदनी सी बातें हों
ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है

tum aa gae ho to kuchh chaandanee see baaten hon
zameen pe chaand kahaan roz roz utarata hai

 


 

सभी रिश्ते गुलाबों की तरह ख़ुशबू नहीं देते
कुछ ऐसे भी तो होते हैं जो काँटे छोड़ जाते हैं

sabhee rishte gulaabon kee tarah khushaboo nahin dete
kuchh aise bhee to hote hain jo kaante chhod jaate hain

 


 

वो झूट बोल रहा था बड़े सलीक़े से
मैं ए’तिबार न करता तो और क्या करता

vo jhoot bol raha tha bade saleeqe se
main etibaar na karata to aur kya karata

 


 

मुसलसल हादसों से बस मुझे इतनी शिकायत है
कि ये आँसू बहाने की भी तो मोहलत नहीं देते

musalasal haadason se bas mujhe itanee shikaayat hai
ki ye aansoo bahaane kee bhee to mohalat nahin dete

 


 

आज पी लेने दे जी लेने दे मुझ को साक़ी
कल मिरी रात ख़ुदा जाने कहाँ गुज़रेगी

aaj pee lene de jee lene de mujh ko saaqee
kal miree raat khuda jaane kahaan guzaregee

 


 

तुझे पाने की कोशिश में कुछ इतना खो चुका हूँ मैं
कि तू मिल भी अगर जाए तो अब मिलने का ग़म होगा

tujhe paane kee koshish mein kuchh itana kho chuka hoon main
ki too mil bhee agar jae to ab milane ka gam hoga

 


 

बहुत से ख़्वाब देखोगे तो आँखें
तुम्हारा साथ देना छोड़ देंगी

bahut se khvaab dekhoge to aankhen
tumhaara saath dena chhod dengee

 


wasim barelvi poetry

wasim barelvi poetry

wasim barelvi poetry


रात तो वक़्त की पाबंद है ढल जाएगी
देखना ये है चराग़ों का सफ़र कितना है

raat to vaqt kee paaband hai dhal jaegee
dekhana ye hai charaagon ka safar kitana hai

 


 

हर शख़्स दौड़ता है यहाँ भीड़ की तरफ़
फिर ये भी चाहता है उसे रास्ता मिले

har shakhs daudata hai yahaan bheed kee taraf
phir ye bhee chaahata hai use raasta mile

 


 

मुझे पढ़ता कोई तो कैसे पढ़ता
मिरे चेहरे पे तुम लिक्खे हुए थे

mujhe padhata koee to kaise padhata
mire chehare pe tum likkhe hue the

 


 

तुम मेरी तरफ़ देखना छोड़ो तो बताऊँ
हर शख़्स तुम्हारी ही तरफ़ देख रहा है

tum meree taraf dekhana chhodo to bataoon
har shakhs tumhaaree hee taraf dekh raha hai

 


 

कोई इशारा दिलासा न कोई व’अदा मगर
जब आई शाम तिरा इंतिज़ार करने लगे

koee ishaara dilaasa na koee vaada magar
jab aaee shaam tira intizaar karane lage

 


 

आते आते मिरा नाम सा रह गया
उस के होंटों पे कुछ काँपता रह गया

aate aate mira naam sa rah gaya
us ke honton pe kuchh kaanpata rah gaya

 


 

हम ये तो नहीं कहते कि हम तुझ से बड़े हैं
लेकिन ये बहुत है कि तिरे साथ खड़े हैं

ham ye to nahin kahate ki ham tujh se bade hain
lekin ye bahut hai ki tire saath khade hain

 


 

शर्तें लगाई जाती नहीं दोस्ती के साथ
कीजे मुझे क़ुबूल मिरी हर कमी के साथ

sharten lagaee jaatee nahin dostee ke saath
keeje mujhe qubool miree har kamee ke saath


2 line wasim barelvi poetry in hindi

2 line wasim barelvi poetry in hindi

2 line wasim barelvi poetry in hindi


मैं जिन दिनों तिरे बारे में सोचता हूँ बहुत
उन्हीं दिनों तो ये दुनिया समझ में आती है

main jin dinon tire baare mein sochata hoon bahut
unheen dinon to ye duniya samajh mein aatee hai

 


 

फूल तो फूल हैं आँखों से घिरे रहते हैं
काँटे बे-कार हिफ़ाज़त में लगे रहते हैं

phool to phool hain aankhon se ghire rahate hain
kaante be-kaar hifaazat mein lage rahate hain

 


 

ग़म और होता सुन के गर आते न वो ‘वसीम’
अच्छा है मेरे हाल की उन को ख़बर नहीं

gam aur hota sun ke gar aate na vo vaseem
achchha hai mere haal kee un ko khabar nahin

 


 

कुछ है कि जो घर दे नहीं पाता है किसी को
वर्ना कोई ऐसे तो सफ़र में नहीं रहता

kuchh hai ki jo ghar de nahin paata hai kisee ko
varna koee aise to safar mein nahin rahata

 


 

वो दिन गए कि मोहब्बत थी जान की बाज़ी
किसी से अब कोई बिछड़े तो मर नहीं जाता

vo din gae ki mohabbat thee jaan kee baazee
kisee se ab koee bichhade to mar nahin jaata

 


 

किसी से कोई भी उम्मीद रखना छोड़ कर देखो
तो ये रिश्ता निभाना किस क़दर आसान हो जाए

kisee se koee bhee ummeed rakhana chhod kar dekho
to ye rishta nibhaana kis qadar aasaan ho jae

 


 

ऐसे रिश्ते का भरम रखना कोई खेल नहीं
तेरा होना भी नहीं और तिरा कहलाना भी

aise rishte ka bharam rakhana koee khel nahin
tera hona bhee nahin aur tira kahalaana bhee

 


 

वैसे तो इक आँसू ही बहा कर मुझे ले जाए
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता

vaise to ik aansoo hee baha kar mujhe le jae
aise koee toofaan hila bhee nahin sakata

 


2 line shayari | two line shayari

2 line shayari of waseem barelavi

2 line shayari of waseem barelavi


मैं बोलता गया हूँ वो सुनता रहा ख़ामोश
ऐसे भी मेरी हार हुई है कभी कभी

main bolata gaya hoon vo sunata raha khaamosh
aise bhee meree haar huee hai kabhee kabhee

 


उन से कह दो मुझे ख़ामोश ही रहने दे ‘वसीम’
लब पे आएगी तो हर बात गिराँ गुज़रेगी

un se kah do mujhe khaamosh hee rahane de vaseem
lab pe aaegee to har baat giraan guzaregee

 


 

वो पूछता था मिरी आँख भीगने का सबब
मुझे बहाना बनाना भी तो नहीं आया

vo poochhata tha miree aankh bheegane ka sabab
mujhe bahaana banaana bhee to nahin aaya

 


 

जो मुझ में तुझ में चला आ रहा है बरसों से
कहीं हयात इसी फ़ासले का नाम न हो

jo mujh mein tujh mein chala aa raha hai barason se
kaheen hayaat isee faasale ka naam na ho

 


 

उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए

usee ko jeene ka haq hai jo is zamaane mein
idhar ka lagata rahe aur udhar ka ho jae

 


 

इसी ख़याल से पलकों पे रुक गए आँसू
तिरी निगाह को शायद सुबूत-ए-ग़म न मिले

isee khayaal se palakon pe ruk gae aansoo
tiree nigaah ko shaayad suboot-e-gam na mile

 


 

मोहब्बत में बिछड़ने का हुनर सब को नहीं आता
किसी को छोड़ना हो तो मुलाक़ातें बड़ी करना

mohabbat mein bichhadane ka hunar sab ko nahin aata
kisee ko chhodana ho to mulaaqaaten badee karana

 


waseem barelvi poetry in urdu

waseem barelvi poetry in urdu

waseem barelvi poetry in urdu


न पाने से किसी के है न कुछ खोने से मतलब है
ये दुनिया है इसे तो कुछ न कुछ होने से मतलब है

na paane se kisee ke hai na kuchh khone se matalab hai
ye duniya hai ise to kuchh na kuchh hone se matalab hai

 


 

किसी ने रख दिए ममता-भरे दो हाथ क्या सर पर
मिरे अंदर कोई बच्चा बिलक कर रोने लगता है

kisee ne rakh die mamata-bhare do haath kya sar par
mire andar koee bachcha bilak kar rone lagata hai

 


 

मैं उस को आँसुओं से लिख रहा हूँ
कि मेरे ब’अद कोई पढ़ न पाए

main us ko aansuon se likh raha hoon
ki mere baad koee padh na paye

 


 

झूट वाले कहीं से कहीं बढ़ गए
और मैं था कि सच बोलता रह गया

jhoot vaale kaheen se kaheen badh gaye
aur main tha ki sach bolata rah gaya

 


 

होंटों को रोज़ इक नए दरिया की आरज़ू
ले जाएगी ये प्यास की आवारगी कहाँ

honton ko roz ik nae dariya kee aarazoo
le jaegee ye pyaas kee aavaaragee kahaan

 


 

मैं ने चाहा है तुझे आम से इंसाँ की तरह
तू मिरा ख़्वाब नहीं है जो बिखर जाएगा

main ne chaaha hai tujhe aam se insaan kee tarah
too mira khvaab nahin hai jo bikhar jaega

 


 

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है
समुंदरों ही के लहजे में बात करता है

zara sa qatara kaheen aaj agar ubharata hai
samundaron hee ke lahaje mein baat karata hai

 


 

शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है

sharaafaton kee yahaan koee ahamiyat hee nahin
kisee ka kuchh na bigaado to kaun darata hai

 


2 line urdu poetry of wasim barelvi

2 line urdu poetry of wasim barelvi

2 line urdu poetry of wasim barelvi


झूट के आगे पीछे दरिया चलते हैं
सच बोला तो प्यासा मारा जाएगा

jhoot ke aage peechhe dariya chalate hain
sach bola to pyaasa maara jaega

 


 

भरे मकाँ का भी अपना नशा है क्या जाने
शराब-ख़ाने में रातें गुज़ारने वाला

bhare makaan ka bhee apana nasha hai kya jaane
sharaab-khaane mein raaten guzaarane vaala

 


 

अपनी इस आदत पे ही इक रोज़ मारे जाएँगे
कोई दर खोले न खोले हम पुकारे जाएँगे

apanee is aadat pe hee ik roz maare jaenge
koee dar khole na khole ham pukaare jaenge

 


 

शाम तक सुब्ह की नज़रों से उतर जाते हैं
इतने समझौतों पे जीते हैं कि मर जाते हैं

shaam tak subh kee nazaron se utar jaate hain
itane samajhauton pe jeete hain ki mar jaate hain

 


 

इन्हें तो ख़ाक में मिलना ही था कि मेरे थे
ये अश्क कौन से ऊँचे घराने वाले थे

inhen to khaak mein milana hee tha ki mere the
ye ashk kaun se oonche gharaane vaale the

 


2 line hindi shayari | 2 line urdu shayari

2 line hindi shayari

2 line hindi shayari

Here is hindi hain hum collection of hindi shayari, shayari, love shayari, sad shayari, romantic shayari, dosti shayari, good, morning shayari, dard bhari shayari, love shayari in hindi, funny shayari and meny more.

2 LINE ATTITUDE STATUS | ATTITUDE SHAYARI

SAD 2 LINE SHAYARI IN HINDI FOR GIRLFRIEND

2 LINE SHAYARI IN URDU | उर्दू शायरी

प्यार और जिंदगी पर 11 सबसे खूबसूरत Shayari VIDEO


 

You may also like