Home ग़ज़ल mirza ghalib shayari in hindi

mirza ghalib shayari in hindi

by piyush Hindustani
hazaron KHwahishen aisi - Mirza Ghalib

mirza ghalib जिनके बिना hindi shayari और urdu shayari की कल्पना भी नहीं की जा सकती। मिर्जा ग़ालिब हिंदी शायरी और उर्दू शायरी का सबसे बड़ा नाम है। mirza ghalib shayari को सभी छोटे बड़े शायर पढ़ कर बड़े हुए है और सभी हिंदी शायरों की लेखनी में mirza ghalib shayari की एक झलक मिल ही जाती है।
आज hindi hain hum आपके लिए लाया है mirza ghalib shayari in hindi, ghalib shayari, ghalib poetry और mirza ghalib shayari in urdu का एक शानदार कलेक्शन जिसे पढ़कर आपको एहसास होगा की क्यों मिर्ज़ा ग़ालिब हिंदी शायरी और उर्दू शायरी के एक महान स्तम्भ थे।


mirza ghalib shayari in hindi

mirza ghalib shayari in hindi

mirza ghalib shayari in hindi


आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक
हम ने माना कि तग़ाफ़ुल न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जाएँगे हम तुम को ख़बर होते तक

aah ko chaahie ik umr asar hote tak
kaun jita hai tiri zulf ke sar hote tak
ham ne maana ki tagaaful na karoge lekin
khaak ho jaenge ham tum ko khabar hote tak

 


 

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले
मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

hazaaron khvaahishen aisi ki har khvaahish pe dam nikale
bahut nikale mire aramaan lekin phir bhi kam nikale
mohabbat mein nahin hai farq jine aur marane ka
usi ko dekh kar jite hain jis kaafir pe dam nikale

 


 

कोई उम्मीद बर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती
हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

koi ummid bar nahin aati
koi surat nazar nahin aati
ham vahaan hain jahaan se ham ko bhi
kuchh hamaari khabar nahin aat

 


mirza ghalib shayari

mirza ghalib shayari

mirza ghalib shayari


हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है
जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तुजू क्या है

har ek baat pe kahate ho tum ki tu kya hai
tumhin kaho ki ye andaaz-e-guftugu kya hai
jala hai jism jahaan dil bhi jal gaya hoga
kuredate ho jo ab raakh justuju kya hai

 


 

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता
हुआ जब ग़म से यूँ बे-हिस तो ग़म क्या सर के कटने का
न होता गर जुदा तन से तो ज़ानू पर धरा होता

na tha kuchh to khuda tha kuchh na hota to khuda hota
duboya mujh ko hone ne na hota main to kya hota
hua jab gam se yun be-his to gam kya sar ke katane ka
na hota gar juda tan se to zaanu par dhara hota

 


 

बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना
ले गए ख़ाक में हम दाग़-ए-तमन्ना-ए-नशात
तू हो और आप ब-सद-रंग-ए-गुलिस्ताँ होना

bas-ki dushvaar hai har kaam ka aasaan hona
aadami ko bhi mayassar nahin insaan hona
le gae khaak mein ham daag-e-tamanna-e-nashaat
tu ho aur aap ba-sad-rang-e-gulistaan hona

 


ghalib shayari

ghalib shayari

ghalib shayari


रहिए अब ऐसी जगह चल कर जहाँ कोई न हो
हम-सुख़न कोई न हो और हम-ज़बाँ कोई न हो
बे-दर-ओ-दीवार सा इक घर बनाया चाहिए
कोई हम-साया न हो और पासबाँ कोई न हो

rahie ab aisi jagah chal kar jahaan koi na ho
ham-sukhan koi na ho aur ham-zabaan koi na ho
be-dar-o-divaar sa ik ghar banaaya chaahie
koi ham-saaya na ho aur paasabaan koi na ho

 


 

इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही
मेरी वहशत तिरी शोहरत ही सही
हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने
ग़ैर को तुझ से मोहब्बत ही सही

ishq mujh ko nahin vahashat hi sahi
meri vahashat tiri shoharat hi sahi
ham bhi dushman to nahin hain apane
gair ko tujh se mohabbat hi sahi

 


 

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे
हसरत ने ला रखा तिरी बज़्म-ए-ख़याल में
गुल-दस्ता-ए-निगाह सुवैदा कहें जिसे

aaina kyun na dun ki tamaasha kahen jise
aisa kahaan se laun ki tujh sa kahen jise
hasarat ne la rakha tiri bazm-e-khayaal mein
gul-dasta-e-nigaah suvaida kahen jise


ghalib poetry

ghalib poetry

ghalib poetry


मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए
जोश-ए-क़दह से बज़्म चराग़ाँ किए हुए
जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए

muddat hui hai yaar ko mehamaan kie hue
josh-e-qadah se bazm charaagaan kie hue
ji dhundata hai phir vahi fursat ki raat din
baithe rahen tasavvur-e-jaanaan kie hue

 


 

आ कि मिरी जान को क़रार नहीं है
ताक़त-ए-बेदाद-ए-इंतिज़ार नहीं है
हम से अबस है गुमान-ए-रंजिश-ए-ख़ातिर
ख़ाक में उश्शाक़ की ग़ुबार नहीं है

aa ki miri jaan ko qaraar nahin hai
taaqat-e-bedaad-e-intizaar nahin hai
ham se abas hai gumaan-e-ranjish-e-khaatir
khaak mein ushshaaq ki gubaar nahin hai

 


 

मेहरबाँ हो के बुला लो मुझे चाहो जिस वक़्त
मैं गया वक़्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकूँ
तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें
मौत कुछ तुम तो नहीं हो कि बुला भी न सकूँ

meharabaan ho ke bula lo mujhe chaaho jis vaqt
main gaya vaqt nahin hun ki phir aa bhi na sakun
tum na aaoge to marane ki hain sau tadabiren
maut kuchh tum to nahin ho ki bula bhi na sakun

 


galib ki shayari

galib ki shayari

galib ki shayari


ग़ैर लें महफ़िल में बोसे जाम के
हम रहें यूँ तिश्ना-लब पैग़ाम के
ख़त लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के

gair len mahafil mein bose jaam ke
ham rahen yun tishna-lab paigaam ke
khat likhenge garache matalab kuchh na ho
ham to aashiq hain tumhaare naam ke

 


 

फिर कुछ इक दिल को बे-क़रारी है
सीना जुया-ए-ज़ख़्म-ए-कारी है
फिर जिगर खोदने लगा नाख़ुन
आमद-ए-फ़स्ल-ए-लाला-कारी है

phir kuchh ik dil ko be-qaraari hai
sina juya-e-zakhm-e-kaari hai
phir jigar khodane laga naakhun
aamad-e-fasl-e-laala-kaari hai

 


 

रोने से और इश्क़ में बेबाक हो गए
धोए गए हम इतने कि बस पाक हो गए
करने गए थे उस से तग़ाफ़ुल का हम गिला
की एक ही निगाह कि बस ख़ाक हो गए

rone se aur ishq mein bebaak ho gae
dhoe gae ham itane ki bas paak ho gae
karane gae the us se tagaaful ka ham gila
ki ek hi nigaah ki bas khaak ho gae


mirza ghalib poetry

mirza ghalib poetry

mirza ghalib poetry


दिल से तिरी निगाह जिगर तक उतर गई
दोनों को इक अदा में रज़ा-मंद कर गई
उड़ती फिरे है ख़ाक मिरी कू-ए-यार में
बारे अब ऐ हवा हवस-ए-बाल-ओ-पर गई

dil se tiri nigaah jigar tak utar gai
donon ko ik ada mein raza-mand kar gai
udati phire hai khaak miri ku-e-yaar mein
baare ab ai hava havas-e-baal-o-par gai

 


 

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था
क़ासिद को अपने हाथ से गर्दन न मारिए
उस की ख़ता नहीं है ये मेरा क़ुसूर था

aaina dekh apana sa munh le ke rah gae
saahab ko dil na dene pe kitana gurur tha
qaasid ko apane haath se gardan na maarie
us ki khata nahin hai ye mera qusur tha

 


 

कहते हो न देंगे हम दिल अगर पड़ा पाया
दिल कहाँ कि गुम कीजे हम ने मुद्दआ’ पाया
इश्क़ से तबीअ’त ने ज़ीस्त का मज़ा पाया
दर्द की दवा पाई दर्द-ए-बे-दवा पाया

kahate ho na denge ham dil agar pada paaya
dil kahaan ki gum kije ham ne mudda paaya
ishq se tabit ne zist ka maza paaya
dard ki dava pai dard-e-be-dava paaya


ghalib quotes

ghalib quotes

ghalib quotes


मैं उन्हें छेड़ूँ और कुछ न कहें
चल निकलते जो मय पिए होते
क़हर हो या बला हो जो कुछ हो
काश के तुम मिरे लिए होते

main unhen chhedun aur kuchh na kahen
chal nikalate jo may pie hote
qahar ho ya bala ho jo kuchh ho
kaash ke tum mire lie hote

 


 

वो फ़िराक़ और वो विसाल कहाँ
वो शब-ओ-रोज़ ओ माह-ओ-साल कहाँ
ऐसा आसाँ नहीं लहू रोना
दिल में ताक़त जिगर में हाल कहाँ

vo firaaq aur vo visaal kahaan
vo shab-o-roz o maah-o-saal kahaan
aisa aasaan nahin lahu rona
dil mein taaqat jigar mein haal kahaan

 


 

घर जब बना लिया तिरे दर पर कहे बग़ैर
जानेगा अब भी तू न मिरा घर कहे बग़ैर
काम उस से आ पड़ा है कि जिस का जहान में
लेवे न कोई नाम सितमगर कहे बग़ैर

ghar jab bana liya tire dar par kahe bagair
jaanega ab bhi tu na mira ghar kahe bagair
kaam us se aa pada hai ki jis ka jahaan mein
leve na koi naam sitamagar kahe bagair

 


galib shayari

galib shayari

galib shayari


हैराँ हूँ दिल को रोऊँ कि पीटूँ जिगर को मैं
मक़्दूर हो तो साथ रखूँ नौहागर को मैं
छोड़ा न रश्क ने कि तिरे घर का नाम लूँ
हर इक से पूछता हूँ कि जाऊँ किधर को मैं

hairaan hun dil ko ruon ki pitun jigar ko main
maqdur ho to saath rakhun nauhaagar ko main
chhoda na rashk ne ki tire ghar ka naam lun
har ik se puchhata hun ki jaun kidhar ko main

 


 

की वफ़ा हम से तो ग़ैर इस को जफ़ा कहते हैं
होती आई है कि अच्छों को बुरा कहते हैं
आज हम अपनी परेशानी-ए-ख़ातिर उन से
कहने जाते तो हैं पर देखिए क्या कहते हैं

ki vafa ham se to gair is ko jafa kahate hain
hoti aai hai ki achchhon ko bura kahate hain
aaj ham apani pareshaani-e-khaatir un se
kahane jaate to hain par dekhie kya kahate hain

 


 

घर हमारा जो न रोते भी तो वीराँ होता
बहर गर बहर न होता तो बयाबाँ होता
तंगी-ए-दिल का गिला क्या ये वो काफ़िर-दिल है
कि अगर तंग न होता तो परेशाँ होता

ghar hamaara jo na rote bhi to viraan hota
bahar gar bahar na hota to bayaabaan hota
tangi-e-dil ka gila kya ye vo kaafir-dil hai
ki agar tang na hota to pareshaan hota

 


mirza ghalib shayari in urdu

mirza ghalib shayari in urdu

mirza ghalib shayari in urdu


चाहिए अच्छों को जितना चाहिए
ये अगर चाहें तो फिर क्या चाहिए
चाहने को तेरे क्या समझा था दिल
बारे अब इस से भी समझा चाहिए

chaahie achchhon ko jitana chaahie
ye agar chaahen to phir kya chaahie
chaahane ko tere kya samajha tha dil
baare ab is se bhi samajha chaahie

 


 

दिया है दिल अगर उस को बशर है क्या कहिए
हुआ रक़ीब तो हो नामा-बर है क्या कहिए
ज़हे करिश्मा कि यूँ दे रक्खा है हम को फ़रेब
कि बिन कहे ही उन्हें सब ख़बर है क्या कहिए

diya hai dil agar us ko bashar hai kya kahie
hua raqib to ho naama-bar hai kya kahie
zahe karishma ki yun de rakkha hai ham ko fareb
ki bin kahe hi unhen sab khabar hai kya kahie

 


 

कब वो सुनता है कहानी मेरी
और फिर वो भी ज़बानी मेरी
क्या बयाँ कर के मिरा रोएँगे यार
भूल जाना है निशानी मेरी

kab vo sunata hai kahaani meri
aur phir vo bhi zabaani meri
kya bayaan kar ke mira roenge yaar
bhul jaana hai nishaani meri

 


mirza ghalib sad shayari

mirza ghalib sad shayari

mirza ghalib sad shayari


दोनों जहान दे के वो समझे ये ख़ुश रहा
याँ आ पड़ी ये शर्म कि तकरार क्या करें
थक थक के हर मक़ाम पे दो चार रह गए
तेरा पता न पाएँ तो नाचार क्या करें

donon jahaan de ke vo samajhe ye khush raha
yaan aa padi ye sharm ki takaraar kya karen
thak thak ke har maqaam pe do chaar rah gae
tera pata na paen to naachaar kya karen

 


 

हम रश्क को अपने भी गवारा नहीं करते
मरते हैं वले उन की तमन्ना नहीं करते
दर-पर्दा उन्हें ग़ैर से है रब्त-ए-निहानी
ज़ाहिर का ये पर्दा है कि पर्दा नहीं करते

ham rashk ko apane bhi gavaara nahin karate
marate hain vale un ki tamanna nahin karate
dar-parda unhen gair se hai rabt-e-nihaani
zaahir ka ye parda hai ki parda nahin karate

 


Hindi Shayari collection

hazaron KHwahishen aisi - Mirza Ghalib

hazaron Khwahishen aisi – Mirza Ghalib

hindi hain hum have a very good collection of love shayari, sad shayari, romantic shayari, dosti shayari, good morning shayari, dard bhari shayari, poetry in urdu, urdu shayari, funny shayari, shayari image, shayari photo

SAD SHAYARI WITH IMAGES IN HINDI | 2 LINE SHAYARI

2 LINE SHAYARI IN URDU | उर्दू शायरी

SAD SHAYARI IN HINDI FOR GIRLFRIEND | 2 LINE SHAYARI

मेरे प्यार की दीवानगी True Love Shayari Video


 

You may also like