Home शायरीDesh Bhakti Shayari desh bhakti Kavita मुसलमाँ और हिन्दू की जान कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान

desh bhakti Kavita मुसलमाँ और हिन्दू की जान कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान

by piyush Hindustani
kahaan hai mera hindostaan | Hindi Hain Hum

अजमल सुल्तानपूरी देश के जाने माने शायर है वो खाश तौर पर अपनी desh bhakti kavita कहा है मेरा हिंदुस्तान के लिए खासे प्रसिद्ध है। उनकी ये desh bhakti hindi kavita युवाओं में खासी प्रसिद्ध है और हर हिंदुस्तानी के जुबान पर रहती है और वो आपको गुनगुनाता मिल जायेगा मुसलमाँ और हिन्दू की जान, कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान, मैं उसको ढूँढ रहा हूँ…

 

देशभक्ति कविता | कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान | देशभक्ति व्हाट्सप्प स्टेटस

 

मुसलमाँ और हिन्दू की जान
कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

मिरे बचपन का हिन्दोस्तान
न बंगलादेश न पाकिस्तान
मिरी आशा मिरा अरमान
वो पूरा पूरा हिन्दोस्तान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

वो मेरा बचपन वो स्कूल
वो कच्ची सड़कें उड़ती धूल
लहकते बाग़ महकते फूल
वो मेरे खेत मिरे खलियान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

वो उर्दू ग़ज़लें हिन्दी गीत
कहीं वो प्यार कहीं वो प्रीत
पहाड़ी झरनों के संगीत
देहाती लहरा पुर्बी तान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

जहाँ के कृष्ण जहाँ के राम
जहाँ की शाम सलोनी शाम
जहाँ की सुब्ह बनारस धाम
जहाँ भगवान करें अश्नान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

जहाँ थे ‘तुलसी’ और ‘कबीर’
‘जायसी’ जैसे पीर फ़क़ीर
जहाँ थे ‘मोमिन’ ‘ग़ालिब’ ‘मीर’
जहाँ थे ‘रहमन’ और ‘रसखा़न’
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

वो मेरे पुरखों की जागीर
कराची लाहौर ओ कश्मीर
वो बिल्कुल शेर की सी तस्वीर
वो पूरा पूरा हिन्दोस्तान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

जहाँ की पाक पवित्र ज़मीन
जहाँ की मिट्टी ख़ुल्द-नशीन
जहाँ महराज ‘मोईनुद्दीन’
ग़रीब-नवाज़ हिन्द सुल्तान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

मुझे है वो लीडर तस्लीम
जो दे यक-जेहती की ता’लीम
मिटा कर कुम्बों की तक़्सीम
जो कर दे हर क़ालिब इक जान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

ये भूका शाइर प्यासा कवी
सिसकता चाँद सुलगता रवी
हो जिस मुद्रा में ऐसी छवी
करा दे ‘अजमल’ को जलपान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

मुसलमाँ और हिन्दू की जान
कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान
मैं उसको ढूँढ रहा हूँ

गीतकार : अजमल सुल्तानपूरी

Desh bhakti kavita मुसलमाँ और हिन्दू की जान कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान

कहाँ है मेरा हिन्दोस्तान  |  Hindi Hain Hum

 

desh bhakti whatsapp status in hindi | desh bhakti Shayari

Desha bhakti kavita | kahaan hai mera hindostaan | Patriotic Poetry

musalamaan aur hindoo kee jaan
kahaan hai mera hindostaan
main usko dhoondh raha hoon

mire bachapan ka hindostaan
na bangalaadesh na paakistaan
miree aasha mira aramaan
vo poora poora hindostaan
main usko dhoondh raha hoon

vo mera bachapan vo skool
vo kachchee sadaken udatee dhool
lahakate baag mahakate phool
vo mere khet mire khaliyaan
main usko dhoondh raha hoon

vo urdoo gazalen hindee geet
kaheen vo pyaar kaheen vo preet
pahaadee jharanon ke sangeet
dehaatee lahara purbee taan
main usko dhoondh raha hoon

jahaan ke krshn jahaan ke raam
jahaan kee shaam salonee shaam
jahaan kee subh banaaras dhaam
jahaan bhagavaan karen ashnaan
main usko dhoondh raha hoon

jahaan the tulasee aur kabeer
jaayasee jaise peer faqeer
jahaan the momin gaalib meer
jahaan the rahaman aur rasakhana
main usko dhoondh raha hoon

vo mere purakhon kee jaageer
karaachee laahaur o kashmeer
vo bilkul sher kee see tasveer
vo poora poora hindostaan
main usko dhoondh raha hoon

jahaan kee paak pavitr zameen
jahaan kee mittee khuld-nasheen
jahaan maharaaj moeenuddeen
gareeb-navaaz hind sultaan
main usko dhoondh raha hoon

mujhe hai vo leedar tasleem
jo de yak-jehatee kee taleem
mita kar kumbon kee taqseem
jo kar de har qaalib ik jaan
main usko dhoondh raha hoon

ye bhooka shair pyaasa kavee
sisakata chaand sulagata ravee
ho jis mudra mein aisee chhavee
kara de ajamal ko jalapaan
main usko dhoondh raha hoon

musalamaan aur hindoo kee jaan
kahaan hai mera hindostaan
main usko dhoondh raha hoon

POET :  AJMAL SULTANPURI

kahaan hai mera hindostaan | Hindi Hain Hum

kahaan hai mera hindostaan | Hindi Hain Hum

 


सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा DESH BHAKTI HINDI SHAYARI

कहा है मेरा हिंदुस्तान मैं उसको ढूढ़ रहा हूँ VIDEO


 

You may also like