Home शायरीDesh Bhakti Shayari desh bhakti kavita | आओ फिर से दिया जलाएँ | Atal Bihari Vajpayee

desh bhakti kavita | आओ फिर से दिया जलाएँ | Atal Bihari Vajpayee

by piyush Hindustani
आओ फिर से दिया जलाएँ Hindi Hain Hum

आओ फिर से दिया जलाये स्वर्गीय अटल विहारी वाजपेयी जी की बेस्ट देशभक्ति कविताओं में से एक है जिसे उन्होंने भारत की एकता का जिक्र करते हुए लिखा था। आपने वैसे तो अनेकों hindi desh bhakti kavita पढ़ी होगी लेकिन अटल जी की इस कविता की बात ही कुछ और है, तो बिना देरी किये पढ़िए  “aao phir se diya jalaen”.

 

Desh bhakti kavita | आओ फिर से दिया जलाएँ

आओ फिर से दिया जलाएँ
आओ फिर से दिया जलाएँ

भरी दुपहरी में अँधियारा
सूरज परछाई से हारा
अंतरतम का नेह निचोड़ें-
बुझी हुई बाती सुलगाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

हम पड़ाव को समझे मंज़िल
लक्ष्य हुआ आँखों से ओझल
वर्त्तमान के मोहजाल में-
आने वाला कल न भुलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ।

आहुति बाकी यज्ञ अधूरा
अपनों के विघ्नों ने घेरा
अंतिम जय का वज़्र बनाने-
नव दधीचि हड्डियाँ गलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

– अटल बिहारी वाजपेयी

Desh bhakti kavita आओ फिर से दिया जलाएँ Hindi Hain Hum

आओ फिर से दिया जलाएँ  Desh bhakti kavita

Desh bhakti kavita | Aao phir se diya jalaen by Atal Bihari Vajpayee 

aao phir se diya jalaen
aao phir se diya jalaen

bharee dupaharee mein andhiyaara
sooraj parachhaee se haara
antaratam ka neh nichoden-
bujhee huee baatee sulagaen.
aao phir se diya jalaen

ham padaav ko samajhe manzil
lakshy hua aankhon se ojhal
varttamaan ke mohajaal mein-
aane vaala kal na bhulaen.
aao phir se diya jalaen.

aahuti baakee yagy adhoora
apanon ke vighnon ne ghera
antim jay ka vazr banaane-
nav dadheechi haddiyaan galaen.
aao phir se diya jalaen

– atal bihaaree vaajapeyee


हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से | deshbhakti shayari video

15 AUGUST SHAYARI | 15 AUGUST STATUS IN HINDI


 

You may also like