Home शायरीZindagi Shayari allama iqbal shayari | iqbal shayari | iqbal poetry

allama iqbal shayari | iqbal shayari | iqbal poetry

by piyush Hindustani
best iqbal Hindi shayari

Iqbal या allama iqbal का पूरा नाम मुहम्मद इक़बाल मसऊदी था जिनका जन्म 9 नवम्बर 1877 अविभाजित भारत के सियालकोट पंजाब में हुआ था। इकबाल के दादा सहज सप्रू हिंदू कश्मीरी पंडित थे जो बाद में सिआलकोट आ गए। iqbal प्रसिद्ध कवि, नेता और दार्शनिक थे। iqbal poetry, iqbal shayari और allama iqbal shayari को आधुनिक काल की सर्वश्रेष्ठ Hindi Shayari और Urdu Shayari में गिना जाता है।

इक़बाल ने हिन्दुस्तान की आज़ादी से पहले iqbal shayari in urdu “तराना-ए-हिन्द” लिखा था, जिसके बोल- “सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा” iqbal poetry जरिये सभी धर्मों के लोगों को ‘हिंदी है हम वतन है’ कहकर देशभक्ति और राष्ट्रवाद की प्रेरणा देते है। इकबाल की मृत्यु 21 अप्रैल 1938 को लाहौर, पंजाब, तत्कालीन भारत में हुई।
आज hindi hain hum आपके लिए लाया है allama iqbal poetry,allama iqbal quotes, iqbal shayari in urdu और allama iqbal shayari का एक शानदार कलेक्शन जिसे पढ़कर आप के फैन बन जायेंगे तो लीजिये प्रस्तुत है iqbal poetry.


iqbal poetry

iqbal poetry

iqbal poetry


सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं
तही ज़िंदगी से नहीं ये फ़ज़ाएँ
यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं

sitaaron se aage jahaan aur bhi hain
abhi ishq ke imtihaan aur bhi hain
tahi zindagi se nahin ye fazaen
yahaan saikadon kaaravaan aur bhi hain

 


 

ख़िर्द-मंदों से क्या पूछूँ कि मेरी इब्तिदा क्या है
कि मैं इस फ़िक्र में रहता हूँ मेरी इंतिहा क्या है
ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले
ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

khird-mandon se kya puchhun ki meri ibtida kya hai
ki main is fikr mein rahata hun meri intiha kya hai
khudi ko kar buland itana ki har taqadir se pahale
khuda bande se khud puchhe bata teri raza kya hai

 


 

तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ
मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ
ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को
कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

tire ishq ki intiha chaahata hun
miri saadagi dekh kya chaahata hun
ye jannat mubaarak rahe zaahidon ko
ki main aap ka saamana chaahata hun

 


 

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

nasha pila ke giraana to sab ko aata hai
maza to tab hai ki giraton ko thaam le saaqi

 


 

तेरा इमाम बे-हुज़ूर तेरी नमाज़ बे-सुरूर
ऐसी नमाज़ से गुज़र ऐसे इमाम से गुज़र

tera imaam be-huzur teri namaaz be-surur
aisi namaaz se guzar aise imaam se guzar

 


iqbal shayari

iqbal shayari

iqbal shayari


हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा-वर पैदा

hazaaron saal nargis apani be-nuri pe roti hai
badi mushkil se hota hai chaman mein dida-var paida

 


 

ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को
कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

ye jannat mubaarak rahe zaahidon ko
ki main aap ka saamana chaahata hun

 


 

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

achchha hai dil ke saath rahe paasabaan-e-aql
lekin kabhi kabhi ise tanha bhi chhod de

 


 

फ़िर्क़ा-बंदी है कहीं और कहीं ज़ातें हैं
क्या ज़माने में पनपने की यही बातें हैं

firqa-bandi hai kahin aur kahin zaaten hain
kya zamaane mein panapane ki yahi baaten hain

 


 

अपने मन में डूब कर पा जा सुराग़-ए-ज़ि़ंदगी
तू अगर मेरा नहीं बनता न बन अपना तो बन

apane man mein dub kar pa ja suraag-e-zindagi
tu agar mera nahin banata na ban apana to ban

 


 

दिल सोज़ से ख़ाली है निगह पाक नहीं है
फिर इस में अजब क्या कि तू बेबाक नहीं है

dil soz se khaali hai nigah paak nahin hai
phir is mein ajab kya ki tu bebaak nahin hai

 


 

नहीं तेरा नशेमन क़स्र-ए-सुल्तानी के गुम्बद पर
तू शाहीं है बसेरा कर पहाड़ों की चटानों में

nahin tera nasheman qasr-e-sultaani ke gumbad par
tu shaahin hai basera kar pahaadon ki chataanon mein

 


 

गला तो घोंट दिया अहल-ए-मदरसा ने तिरा
कहाँ से आए सदा ला इलाह इल-लल्लाह

gala to ghont diya ahal-e-madarasa ne tira
kahaan se aae sada la ilaah il-lallaah

 


 

दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूँ या रब
क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो

duniya ki mahafilon se ukata gaya hun ya rab
kya lutf anjuman ka jab dil hi bujh gaya ho

 


allama iqbal poetry

allama iqbal poetry

allama iqbal poetry


महीने वस्ल के घड़ियों की सूरत उड़ते जाते हैं
मगर घड़ियाँ जुदाई की गुज़रती हैं महीनों में

mahine vasl ke ghadiyon ki surat udate jaate hain
magar ghadiyaan judai ki guzarati hain mahinon mein

 


 

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

dil se jo baat nikalati hai asar rakhati hai
par nahin taaqat-e-paravaaz magar rakhati hai

 


 

वजूद-ए-ज़न से है तस्वीर-ए-काएनात में रंग
इसी के साज़ से है ज़िंदगी का सोज़-ए-दरूँ

vajud-e-zan se hai tasvir-e-kaenaat mein rang
isi ke saaz se hai zindagi ka soz-e-darun

 


 

इल्म में भी सुरूर है लेकिन
ये वो जन्नत है जिस में हूर नहीं

ilm mein bhi surur hai lekin
ye vo jannat hai jis mein hur nahin

 


 

जो मैं सर-ब-सज्दा हुआ कभी तो ज़मीं से आने लगी सदा
तिरा दिल तो है सनम-आश्ना तुझे क्या मिलेगा नमाज़ में

jo main sar-ba-sajda hua kabhi to zamin se aane lagi sada
tira dil to hai sanam-aashna tujhe kya milega namaaz mein

 


 

ऐ ताइर-ए-लाहूती उस रिज़्क़ से मौत अच्छी
जिस रिज़्क़ से आती हो परवाज़ में कोताही

ai tair-e-laahuti us rizq se maut achchhi
jis rizq se aati ho paravaaz mein kotaahi

 


 

ज़ाहिर की आँख से न तमाशा करे कोई
हो देखना तो दीदा-ए-दिल वा करे कोई

zaahir ki aankh se na tamaasha kare koi
ho dekhana to dida-e-dil va kare koi

 


 

हया नहीं है ज़माने की आँख में बाक़ी
ख़ुदा करे कि जवानी तिरी रहे बे-दाग़

haya nahin hai zamaane ki aankh mein baaqi
khuda kare ki javaani tiri rahe be-daag

 


allama iqbal shayari

allama iqbal shayari

allama iqbal shayari


उमीद-ए-हूर ने सब कुछ सिखा रक्खा है वाइज़ को
ये हज़रत देखने में सीधे-सादे भोले-भाले हैं

umid-e-hur ne sab kuchh sikha rakkha hai vaiz ko
ye hazarat dekhane mein sidhe-saade bhole-bhaale hain

 


 

जिस खेत से दहक़ाँ को मयस्सर नहीं रोज़ी
उस खेत के हर ख़ोशा-ए-गंदुम को जला दो

jis khet se dahaqaan ko mayassar nahin rozi
us khet ke har khosha-e-gandum ko jala do

 


 

जिन्हें मैं ढूँढता था आसमानों में ज़मीनों में
वो निकले मेरे ज़ुल्मत-ख़ाना-ए-दिल के मकीनों में

jinhen main dhundhata tha aasamaanon mein zaminon mein
vo nikale mere zulmat-khaana-e-dil ke makinon mein

 


 

ग़ुलामी में न काम आती हैं शमशीरें न तदबीरें
जो हो ज़ौक़-ए-यक़ीं पैदा तो कट जाती हैं ज़ंजीरें

gulaami mein na kaam aati hain shamashiren na tadabiren
jo ho zauq-e-yaqin paida to kat jaati hain zanjiren

 


 

‘अत्तार’ हो ‘रूमी’ हो ‘राज़ी’ हो ‘ग़ज़ाली’ हो
कुछ हाथ नहीं आता बे-आह-ए-सहर-गाही

attaar ho rumi ho raazi ho gazaali ho
kuchh haath nahin aata be-aah-e-sahar-gaahi

 


 

फ़क़त निगाह से होता है फ़ैसला दिल का
न हो निगाह में शोख़ी तो दिलबरी क्या है

faqat nigaah se hota hai faisala dil ka
na ho nigaah mein shokhi to dilabari kya hai

 


 

बे-ख़तर कूद पड़ा आतिश-ए-नमरूद में इश्क़
अक़्ल है महव-ए-तमाशा-ए-लब-ए-बाम अभी

be-khatar kud pada aatish-e-namarud mein ishq
aql hai mahav-e-tamaasha-e-lab-e-baam abhi

 


 

अमल से ज़िंदगी बनती है जन्नत भी जहन्नम भी
ये ख़ाकी अपनी फ़ितरत में न नूरी है न नारी है

amal se zindagi banati hai jannat bhi jahannam bhi
ye khaaki apani fitarat mein na nuri hai na naari hai

 


 

तुझे किताब से मुमकिन नहीं फ़राग़ कि तू
किताब-ख़्वाँ है मगर साहिब-ए-किताब नहीं

tujhe kitaab se mumakin nahin faraag ki tu
kitaab-khvaan hai magar saahib-e-kitaab nahin

 


iqbal quotes

iqbal quotes

iqbal quotes


इश्क़ तिरी इंतिहा इश्क़ मिरी इंतिहा
तू भी अभी ना-तमाम मैं भी अभी ना-तमाम

ishq tiri intiha ishq miri intiha
tu bhi abhi na-tamaam main bhi abhi na-tamaam

 


 

बातिल से दबने वाले ऐ आसमाँ नहीं हम
सौ बार कर चुका है तू इम्तिहाँ हमारा

baatil se dabane vaale ai aasamaan nahin ham
sau baar kar chuka hai tu imtihaan hamaara

 


 

तमन्ना दर्द-ए-दिल की हो तो कर ख़िदमत फ़क़ीरों की
नहीं मिलता ये गौहर बादशाहों के ख़ज़ीनों में

tamanna dard-e-dil ki ho to kar khidamat faqiron ki
nahin milata ye gauhar baadashaahon ke khazinon mein

 


 

तू क़ादिर ओ आदिल है मगर तेरे जहाँ में
हैं तल्ख़ बहुत बंदा-ए-मज़दूर के औक़ात

tu qaadir o aadil hai magar tere jahaan mein
hain talkh bahut banda-e-mazadur ke auqaat

 


 

कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में
कि हज़ारों सज्दे तड़प रहे हैं मिरी जबीन-ए-नियाज़ में

kabhi ai haqiqat-e-muntazar nazar aa libaas-e-majaaz mein
ki hazaaron sajde tadap rahe hain miri jabin-e-niyaaz mein

 


 

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इस की ये गुलसिताँ हमारा

saare jahaan se achchha hindostaan hamaara
ham bulabulen hain is ki ye gulasitaan hamaara

 


 

ख़ुदावंदा ये तेरे सादा-दिल बंदे किधर जाएँ
कि दरवेशी भी अय्यारी है सुल्तानी भी अय्यारी

khudaavanda ye tere saada-dil bande kidhar jaen
ki daraveshi bhi ayyaari hai sultaani bhi ayyaari

 


 

उक़ाबी रूह जब बेदार होती है जवानों में
नज़र आती है उन को अपनी मंज़िल आसमानों में

uqaabi ruh jab bedaar hoti hai javaanon mein
nazar aati hai un ko apani manzil aasamaanon mein

 


allama iqbal quotes

allama iqbal quotes

allama iqbal quotes


अनोखी वज़्अ’ है सारे ज़माने से निराले हैं
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या-रब रहने वाले हैं

anokhi vaz hai saare zamaane se niraale hain
ye aashiq kaun si basti ke ya-rab rahane vaale hain

 


 

ये काएनात अभी ना-तमाम है शायद
कि आ रही है दमादम सदा-ए-कुन-फ़यकूँ

ye kaenaat abhi na-tamaam hai shaayad
ki aa rahi hai damaadam sada-e-kun-fayakun

 


 

जलाल-ए-पादशाही हो कि जमहूरी तमाशा हो
जुदा हो दीं सियासत से तो रह जाती है चंगेज़ी

jalaal-e-paadashaahi ho ki jamahuri tamaasha ho
juda ho din siyaasat se to rah jaati hai changezi

 


 

अक़्ल को तन्क़ीद से फ़ुर्सत नहीं
इश्क़ पर आमाल की बुनियाद रख

aql ko tanqid se fursat nahin
ishq par aamaal ki buniyaad rakh

 


 

कभी छोड़ी हुई मंज़िल भी याद आती है राही को
खटक सी है जो सीने में ग़म-ए-मंज़िल न बन जाए

kabhi chhodi hui manzil bhi yaad aati hai raahi ko
khatak si hai jo sine mein gam-e-manzil na ban jae

 


 

कुशादा दस्त-ए-करम जब वो बे-नियाज़ करे
नियाज़-मंद न क्यूँ आजिज़ी पे नाज़ करे

kushaada dast-e-karam jab vo be-niyaaz kare
niyaaz-mand na kyun aajizi pe naaz kare

 


 

हाँ दिखा दे ऐ तसव्वुर फिर वो सुब्ह ओ शाम तू
दौड़ पीछे की तरफ़ ऐ गर्दिश-ए-अय्याम तू

haan dikha de ai tasavvur phir vo subh o shaam tu
daud pichhe ki taraf ai gardish-e-ayyaam tu

 


 

इश्क़ भी हो हिजाब में हुस्न भी हो हिजाब में
या तो ख़ुद आश्कार हो या मुझे आश्कार कर

ishq bhi ho hijaab mein husn bhi ho hijaab mein
ya to khud aashkaar ho ya mujhe aashkaar kar

 


 

वतन की फ़िक्र कर नादाँ मुसीबत आने वाली है
तिरी बर्बादियों के मशवरे हैं आसमानों में

vatan ki fikr kar naadaan musibat aane vaali hai
tiri barbaadiyon ke mashavare hain aasamaanon mein

 


iqbal shayari in urdu

iqbal shayari in urdu

iqbal shayari in urdu


अक़्ल अय्यार है सौ भेस बदल लेती है
इश्क़ बेचारा न ज़ाहिद है न मुल्ला न हकीम

aql ayyaar hai sau bhes badal leti hai
ishq bechaara na zaahid hai na mulla na hakim

 


 

बाग़-ए-बहिश्त से मुझे हुक्म-ए-सफ़र दिया था क्यूँ
कार-ए-जहाँ दराज़ है अब मिरा इंतिज़ार कर

baag-e-bahisht se mujhe hukm-e-safar diya tha kyun
kaar-e-jahaan daraaz hai ab mira intizaar kar

 


 

हुई न आम जहाँ में कभी हुकूमत-ए-इश्क़
सबब ये है कि मोहब्बत ज़माना-साज़ नहीं

hui na aam jahaan mein kabhi hukumat-e-ishq
sabab ye hai ki mohabbat zamaana-saaz nahin

 


 

तिरे आज़ाद बंदों की न ये दुनिया न वो दुनिया
यहाँ मरने की पाबंदी वहाँ जीने की पाबंदी

tire aazaad bandon ki na ye duniya na vo duniya
yahaan marane ki paabandi vahaan jine ki paabandi

 


 

रोज़-ए-हिसाब जब मिरा पेश हो दफ़्तर-ए-अमल
आप भी शर्मसार हो मुझ को भी शर्मसार कर

roz-e-hisaab jab mira pesh ho daftar-e-amal
aap bhi sharmasaar ho mujh ko bhi sharmasaar kar

 


 

वो हर्फ़-ए-राज़ कि मुझ को सिखा गया है जुनूँ
ख़ुदा मुझे नफ़स-ए-जिबरईल दे तो कहूँ

vo harf-e-raaz ki mujh ko sikha gaya hai junun
khuda mujhe nafas-e-jibaril de to kahun

 


 

यूँ तो सय्यद भी हो मिर्ज़ा भी हो अफ़्ग़ान भी हो
तुम सभी कुछ हो बताओ मुसलमान भी हो

yun to sayyad bhi ho mirza bhi ho afgaan bhi ho
tum sabhi kuchh ho batao musalamaan bhi ho

 


 

ज़माना अक़्ल को समझा हुआ है मिशअल-ए-राह
किसे ख़बर कि जुनूँ भी है साहिब-ए-इदराक

zamaana aql ko samajha hua hai mishal-e-raah
kise khabar ki junun bhi hai saahib-e-idaraak

 


best iqbal Hindi shayari

best iqbal Hindi shayari

best iqbal Hindi shayari


मन की दौलत हाथ आती है तो फिर जाती नहीं
तन की दौलत छाँव है आता है धन जाता है धन

man ki daulat haath aati hai to phir jaati nahin
tan ki daulat chhaanv hai aata hai dhan jaata hai dhan

 


 

यक़ीं मोहकम अमल पैहम मोहब्बत फ़ातेह-ए-आलम
जिहाद-ए-ज़िंदगानी में हैं ये मर्दों की शमशीरें

yaqin mohakam amal paiham mohabbat faateh-e-aalam
jihaad-e-zindagaani mein hain ye mardon ki shamashiren

 


 

नहीं है ना-उमीद ‘इक़बाल’ अपनी किश्त-ए-वीराँ से
ज़रा नम हो तो ये मिट्टी बहुत ज़रख़ेज़ है साक़ी

nahin hai na-umid iqabaal apani kisht-e-viraan se
zara nam ho to ye mitti bahut zarakhez hai saaqi

 


 

सबक़ मिला है ये मेराज-ए-मुस्तफ़ा से मुझे
कि आलम-ए-बशरीयत की ज़द में है गर्दूं

sabaq mila hai ye meraaj-e-mustafa se mujhe
ki aalam-e-bashariyat ki zad mein hai gardun

 


 

सितारा क्या मिरी तक़दीर की ख़बर देगा
वो ख़ुद फ़राख़ी-ए-अफ़्लाक में है ख़्वार ओ ज़ुबूँ

sitaara kya miri taqadir ki khabar dega
vo khud faraakhi-e-aflaak mein hai khvaar o zubun

 


 

ख़ुदी वो बहर है जिस का कोई किनारा नहीं
तू आबजू इसे समझा अगर तो चारा नहीं

khudi vo bahar hai jis ka koi kinaara nahin
tu aabaju ise samajha agar to chaara nahin

 


 

मस्जिद तो बना दी शब भर में ईमाँ की हरारत वालों ने
मन अपना पुराना पापी है बरसों में नमाज़ी बन न सका

masjid to bana di shab bhar mein imaan ki haraarat vaalon ne
man apana puraana paapi hai barason mein namaazi ban na saka

 


 

हुए मदफ़ून-ए-दरिया ज़ेर-ए-दरिया तैरने वाले
तमांचे मौज के खाते थे जो बन कर गुहर निकले

hue madafun-e-dariya zer-e-dariya tairane vaale
tamaanche mauj ke khaate the jo ban kar guhar nikale

 


Motivetional shayari of iqbal

Motivetional shayari of iqbal

Motivetional shayari of iqbal


ढूँडता फिरता हूँ मैं ‘इक़बाल’ अपने आप को
आप ही गोया मुसाफ़िर आप ही मंज़िल हूँ मैं

dhundata phirata hun main iqabaal apane aap ko
aap hi goya musaafir aap hi manzil hun main

 


 

तू ने ये क्या ग़ज़ब किया मुझ को भी फ़ाश कर दिया
मैं ही तो एक राज़ था सीना-ए-काएनात में

tu ne ye kya gazab kiya mujh ko bhi faash kar diya
main hi to ek raaz tha sina-e-kaenaat mein

 


 

समुंदर से मिले प्यासे को शबनम
बख़ीली है ये रज़्ज़ाक़ी नहीं है

samundar se mile pyaase ko shabanam
bakhili hai ye razzaaqi nahin hai

 


 

बुतों से तुझ को उमीदें ख़ुदा से नौमीदी
मुझे बता तो सही और काफ़िरी क्या है

buton se tujh ko umiden khuda se naumidi
mujhe bata to sahi aur kaafiri kya hai

 


 

भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी
बड़ा बे-अदब हूँ सज़ा चाहता हूँ

bhari bazm mein raaz ki baat kah di
bada be-adab hun saza chaahata hun

 


 

मोती समझ के शान-ए-करीमी ने चुन लिए
क़तरे जो थे मिरे अरक़-ए-इंफ़िआ’ल के

moti samajh ke shaan-e-karimi ne chun lie
qatare jo the mire araq-e-imfial ke

 


 

मैं तुझ को बताता हूँ तक़दीर-ए-उमम क्या है
शमशीर-ओ-सिनाँ अव्वल ताऊस-ओ-रुबाब आख़िर

main tujh ko bataata hun taqadir-e-umam kya hai
shamashir-o-sinaan avval taus-o-rubaab aakhir

 


 

ज़मीर-ए-लाला मय-ए-लाल से हुआ लबरेज़
इशारा पाते ही सूफ़ी ने तोड़ दी परहेज़

zamir-e-laala may-e-laal se hua labarez
ishaara paate hi sufi ne tod di parahez

 


inspirational poetry of iqbal

inspirational poetry of iqbal

inspirational poetry of iqbal


आईन-ए-जवाँ-मर्दां हक़-गोई ओ बे-बाकी
अल्लाह के शेरों को आती नहीं रूबाही

aain-e-javaan-mardaan haq-goi o be-baaki
allaah ke sheron ko aati nahin rubaahi

 


 

सौ सौ उमीदें बंधती है इक इक निगाह पर
मुझ को न ऐसे प्यार से देखा करे कोई

sau sau umiden bandhati hai ik ik nigaah par
mujh ko na aise pyaar se dekha kare koi

 


 

गुज़र जा अक़्ल से आगे कि ये नूर
चराग़-ए-राह है मंज़िल नहीं है!

guzar ja aql se aage ki ye nur
charaag-e-raah hai manzil nahin hai!

 


 

कभी हम से कभी ग़ैरों से शनासाई है
बात कहने की नहीं तू भी तो हरजाई है

kabhi ham se kabhi gairon se shanaasai hai
baat kahane ki nahin tu bhi to harajai hai

 


 

निगह बुलंद सुख़न दिल-नवाज़ जाँ पुर-सोज़
यही है रख़्त-ए-सफ़र मीर-ए-कारवाँ के लिए

nigah buland sukhan dil-navaaz jaan pur-soz
yahi hai rakht-e-safar mir-e-kaaravaan ke lie

 


 

हवा हो ऐसी कि हिन्दोस्ताँ से ऐ ‘इक़बाल’
उड़ा के मुझ को ग़ुबार-ए-रह-ए-हिजाज़ करे

hava ho aisi ki hindostaan se ai iqabaal
uda ke mujh ko gubaar-e-rah-e-hijaaz kare

 


 

मिरी निगाह में वो रिंद ही नहीं साक़ी
जो होशियारी ओ मस्ती में इम्तियाज़ करे

miri nigaah mein vo rind hi nahin saaqi
jo hoshiyaari o masti mein imtiyaaz kare

 


 

हर शय मुसाफ़िर हर चीज़ राही
क्या चाँद तारे क्या मुर्ग़ ओ माही

har shay musaafir har chiz raahi
kya chaand taare kya murg o maahi

 


shayari of iqbal

shayari of iqbal

shayari of iqbal


मुझे रोकेगा तू ऐ नाख़ुदा क्या ग़र्क़ होने से
कि जिन को डूबना है डूब जाते हैं सफ़ीनों में

mujhe rokega tu ai naakhuda kya garq hone se
ki jin ko dubana hai dub jaate hain safinon mein

 


 

अगर हंगामा-हा-ए-शौक़ से है ला-मकाँ ख़ाली
ख़ता किस की है या रब ला-मकाँ तेरा है या मेरा

agar hangaama-ha-e-shauq se hai la-makaan khaali
khata kis ki hai ya rab la-makaan tera hai ya mera

 


 

न पूछो मुझ से लज़्ज़त ख़ानमाँ-बर्बाद रहने की
नशेमन सैकड़ों मैं ने बना कर फूँक डाले हैं

na puchho mujh se lazzat khaanamaan-barbaad rahane ki
nasheman saikadon main ne bana kar phunk daale hain

 


 

मिलेगा मंज़िल-ए-मक़्सूद का उसी को सुराग़
अँधेरी शब में है चीते की आँख जिस का चराग़

milega manzil-e-maqsud ka usi ko suraag
andheri shab mein hai chite ki aankh jis ka charaag

 


 

नहीं इस खुली फ़ज़ा में कोई गोशा-ए-फ़राग़त
ये जहाँ अजब जहाँ है न क़फ़स न आशियाना

nahin is khuli faza mein koi gosha-e-faraagat
ye jahaan ajab jahaan hai na qafas na aashiyaana

 


 

है राम के वजूद पे हिन्दोस्ताँ को नाज़
अहल-ए-नज़र समझते हैं उस को इमाम-ए-हिंद

hai raam ke vajud pe hindostaan ko naaz
ahal-e-nazar samajhate hain us ko imaam-e-hind

 


 

गुलज़ार-ए-हस्त-ओ-बूद न बेगाना-वार देख
है देखने की चीज़ इसे बार बार देख

gulazaar-e-hast-o-bud na begaana-vaar dekh
hai dekhane ki chiz ise baar baar dekh

 


 

आँख जो कुछ देखती है लब पे आ सकता नहीं
महव-ए-हैरत हूँ कि दुनिया क्या से क्या हो जाएगी

aankh jo kuchh dekhati hai lab pe aa sakata nahin
mahav-e-hairat hun ki duniya kya se kya ho jaegi

 


Urdu Shayari | iqbal ki shayari

Urdu Shayari

Urdu Shayari


अंदाज़-ए-बयाँ गरचे बहुत शोख़ नहीं है
शायद कि उतर जाए तिरे दिल में मिरी बात

andaaz-e-bayaan garache bahut shokh nahin hai
shaayad ki utar jae tire dil mein miri baat

 


 

मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना
हिन्दी हैं हम वतन है हिन्दोस्ताँ हमारा

mazahab nahin sikhaata aapas mein bair rakhana
hindi hain ham vatan hai hindostaan hamaara

 


 

निगाह-ए-इश्क़ दिल-ए-ज़िंदा की तलाश में है
शिकार-ए-मुर्दा सज़ा-वार-ए-शाहबाज़ नहीं

nigaah-e-ishq dil-e-zinda ki talaash mein hai
shikaar-e-murda saza-vaar-e-shaahabaaz nahin

 


 

तू है मुहीत-ए-बे-कराँ मैं हूँ ज़रा सी आबजू
या मुझे हम-कनार कर या मुझे बे-कनार कर

tu hai muhit-e-be-karaan main hun zara si aabaju
ya mujhe ham-kanaar kar ya mujhe be-kanaar kar

 


 

उरूज-ए-आदम-ए-ख़ाकी से अंजुम सहमे जाते हैं
कि ये टूटा हुआ तारा मह-ए-कामिल न बन जाए

uruj-e-aadam-e-khaaki se anjum sahame jaate hain
ki ye tuta hua taara mah-e-kaamil na ban jae

 


 

सौदा-गरी नहीं ये इबादत ख़ुदा की है
ऐ बे-ख़बर जज़ा की तमन्ना भी छोड़ दे

sauda-gari nahin ye ibaadat khuda ki hai
ai be-khabar jaza ki tamanna bhi chhod de

 


 

मक़ाम-ए-शौक़ तिरे क़ुदसियों के बस का नहीं
उन्हीं का काम है ये जिन के हौसले हैं ज़ियाद

maqaam-e-shauq tire qudasiyon ke bas ka nahin
unhin ka kaam hai ye jin ke hausale hain ziyaad

 


 

जब इश्क़ सिखाता है आदाब-ए-ख़ुद-आगाही
खुलते हैं ग़ुलामों पर असरार-ए-शहंशाही

jab ishq sikhaata hai aadaab-e-khud-aagaahi
khulate hain gulaamon par asaraar-e-shahanshahi

 


Hindi Shayari

Hindi Shayari

Hindi Shayari

Here is hindi hain hum collection of hindi shayari, shayari, love shayari, sad shayari, romantic shayari, dosti shayari, good, morning shayari, dard bhari shayari, love shayari in hindi, funny shayari and meny more.

MOTIVATIONAL SHAYARI IN HINDI | INSPIRATIONAL SHAYARI

SAD SHAYARI WITH IMAGES IN HINDI | 2 LINE SHAYARI

SAD SHAYARI IN HINDI FOR GIRLFRIEND | 2 LINE SHAYARI

2 LINE SHAYARI IN URDU | उर्दू शायरी

प्यार की इससे खूबसूरत शायरी आपने नहीं सुनी होगी | True Love Shayari VIDEO


 

You may also like