Home शायरीDesh Bhakti Shayari adam gondvi poems on hindi hain hum

adam gondvi poems on hindi hain hum

by piyush Hindustani
collection of adam gondvi poem

अदम गोंडवी का जन्म ग्राम आटा , परसपुर, गोंडा, उत्तर प्रदेश में हुआ था। इनका असली नाम रामनाथ सिंह था। इनका जन्म 22 अक्तूबर 1947 को और निधन 18 दिसम्बर 2011को हुआ। adam gondvi हिंदी शायरी और Urdu shayari के एक प्रख्यात शायर थे। adam gondvi poems को लोग इसलिए भी पसंद करते हैं कि gondvi बिना डरे समाज की कुरीतियों पर करारा प्रहार करते थे।
adam gondvi ki kavita hindi shayari और उर्दू शायरी की निडर मिसाल हैं। इसीलिए hindi hain hum आपके लिए लेकर आया है adam gondvi shayari,adam gondvi kavita,adam gondvi books और adam gondvi सहाब की दश सबसे बेहतरीन ग़ज़लों का कलेक्शन।

 


adam gondvi

"<yoastmark


हिन्दू या मुस्लिम के अहसासात को मत छेड़िये
अपनी कुरसी के लिए जज्बात को मत छेड़िये

हममें कोई हूण, कोई शक, कोई मंगोल है
दफ़्न है जो बात, अब उस बात को मत छेड़िये

ग़र ग़लतियाँ बाबर की थीं; जुम्मन का घर फिर क्यों जले
ऐसे नाजुक वक्त में हालात को मत छेड़िये

हैं कहाँ हिटलर, हलाकू, जार या चंगेज़ ख़ाँ
मिट गये सब, क़ौम की औक़ात को मत छेड़िये

छेड़िये इक जंग, मिल-जुल कर गरीबी के ख़िलाफ़
दोस्त, मेरे मजहबी नग्मात को मत छेड़िये

हिन्दू या मुस्लिम के अहसासात को मत छेड़िये

hindoo ya muslim ke ahasaasaat ko mat chhediye
apanee kurasee ke lie jajbaat ko mat chhediye

hamamen koee hoon, koee shak, koee mangol hai
dafn hai jo baat, ab us baat ko mat chhediye

gar galatiyaan baabar kee theen; jumman ka ghar phir kyon jale
aise naajuk vakt mein haalaat ko mat chhediye

hain kahaan hitalar, halaakoo, jaar ya changez khaan
mit gaye sab, qaum kee auqaat ko mat chhediye

chhediye ik jang, mil-jul kar gareebee ke khilaaf
dost, mere majahabee nagmaat ko mat chhediye

 


adam gondvi poems

"<yoastmark


भुखमरी की ज़द में है या दार के साये में है
अहले हिन्दुस्तान अब तलवार के साये में है

छा गई है जेहन की परतों पर मायूसी की धूप
आदमी गिरती हुई दीवार के साये में है

बेबसी का इक समंदर दूर तक फैला हुआ
और कश्ती कागजी पतवार के साये में है

हम फ़कीरों की न पूछो मुतमईन वो भी नहीं
जो तुम्हारी गेसुए खमदार के साये में है

भुखमरी की ज़द में है या दार के साये में है

bhukhamaree kee zad mein hai ya daar ke saaye mein hai
ahale hindustaan ab talavaar ke saaye mein hai

chha gaee hai jehan kee paraton par maayoosee kee dhoop
aadamee giratee huee deevaar ke saaye mein hai

bebasee ka ik samandar door tak phaila hua
aur kashtee kaagajee patavaar ke saaye mein hai

ham fakeeron kee na poochho mutameen vo bhee nahin
jo tumhaaree gesue khamadaar ke saaye mein hai

 


adam gondvi ki kavita

"<yoastmark


जिस्म क्या है रूह तक सब कुछ ख़ुलासा देखिये
आप भी इस भीड़ में घुस कर तमाशा देखिये

जो बदल सकती है इस पुलिया के मौसम का मिजाज़
उस युवा पीढ़ी के चेहरे की हताशा देखिये

जल रहा है देश यह बहला रही है क़ौम को
किस तरह अश्लील है कविता की भाषा देखिये

मतस्यगंधा फिर कोई होगी किसी ऋषि का शिकार
दूर तक फैला हुआ गहरा कुहासा देखिये.

जिस्म क्या है रूह तक सब कुछ ख़ुलासा देखिये

jism kya hai rooh tak sab kuchh khulaasa dekhiye
aap bhee is bheed mein ghus kar tamaasha dekhiye

jo badal sakatee hai is puliya ke mausam ka mijaaz
us yuva peedhee ke chehare kee hataasha dekhiye

jal raha hai desh yah bahala rahee hai qaum ko
kis tarah ashleel hai kavita kee bhaasha dekhiye

matasyagandha phir koee hogee kisee rshi ka shikaar
door tak phaila hua gahara kuhaasa dekhiye.

 


adam gondvi shayari

"<yoastmark


गर चंद तवारीखी तहरीर बदल दोगे
क्या इनसे किसी कौम की तक़दीर बदल दोगे

जायस से वो हिन्दी की दरिया जो बह के आई
मोड़ोगे उसकी धारा या नीर बदल दोगे ?

जो अक्स उभरता है रसख़ान की नज्मों में
क्या कृष्ण की वो मोहक तस्वीर बदल दोगे ?

तारीख़ बताती है तुम भी तो लुटेरे हो
क्या द्रविड़ों से छीनी जागीर बदल दोगे ?

गर चंद तवारीखी तहरीर बदल दोगे

gar chand tavaareekhee tahareer badal doge
kya inase kisee kaum kee taqadeer badal doge

jaayas se vo hindee kee dariya jo bah ke aaee
modoge usakee dhaara ya neer badal doge ?

jo aks ubharata hai rasakhaan kee najmon mein
kya krshn kee vo mohak tasveer badal doge ?

taareekh bataatee hai tum bhee to lutere ho
kya dravidon se chheenee jaageer badal doge ?

 


gondvi | तुम्हारी फाइलों में

gondvi | तुम्हारी फाइलों में

gondvi | तुम्हारी फाइलों में


तुम्हारी फाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है
मगर ये आंकड़े झूठे हैं ये दावा किताबी है

उधर जम्हूरियत का ढोल पीते जा रहे हैं वो
इधर परदे के पीछे बर्बरीयत है ,नवाबी है

लगी है होड़ – सी देखो अमीरी औ गरीबी में
ये गांधीवाद के ढाँचे की बुनियादी खराबी है

तुम्हारी मेज़ चांदी की तुम्हारे जाम सोने के
यहाँ जुम्मन के घर में आज भी फूटी रक़ाबी है

तुम्हारी फाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है

tumhaaree phailon mein gaanv ka mausam gulaabee hai
magar ye aankade jhoothe hain ye daava kitaabee hai

udhar jamhooriyat ka dhol peete ja rahe hain vo
idhar parade ke peechhe barbareeyat hai ,navaabee hai

lagee hai hod – see dekho ameeree au gareebee mein
ye gaandheevaad ke dhaanche kee buniyaadee kharaabee hai

tumhaaree mez chaandee kee tumhaare jaam sone ke
yahaan jumman ke ghar mein aaj bhee phootee raqaabee hai

 


adam gondvi kavita

"<yoastmark


वो जिसके हाथ में छाले हैं पैरों में बिवाई है
उसी के दम से रौनक आपके बंगले में आई है

इधर एक दिन की आमदनी का औसत है चवन्नी का
उधर लाखों में गांधी जी के चेलों की कमाई है

कोई भी सिरफिरा धमका के जब चाहे जिना कर ले
हमारा मुल्क इस माने में बुधुआ की लुगाई है

रोटी कितनी महँगी है ये वो औरत बताएगी
जिसने जिस्म गिरवी रख के ये क़ीमत चुकाई है

वो जिसके हाथ में छाले हैं पैरों में बिवाई है

vo jisake haath mein chhaale hain pairon mein bivaee hai
usee ke dam se raunak aapake bangale mein aaee hai

idhar ek din kee aamadanee ka ausat hai chavannee ka
udhar laakhon mein gaandhee jee ke chelon kee kamaee hai

koee bhee siraphira dhamaka ke jab chaahe jina kar le
hamaara mulk is maane mein budhua kee lugaee hai

rotee kitanee mahangee hai ye vo aurat bataegee
jisane jism giravee rakh ke ye qeemat chukaee hai

 


adam gondvi books

"<yoastmark


काजू भुने पलेट में, विस्की गिलास में
उतरा है रामराज विधायक निवास में

पक्के समाजवादी हैं, तस्कर हों या डकैत
इतना असर है ख़ादी के उजले लिबास में

आजादी का वो जश्न मनायें तो किस तरह
जो आ गए फुटपाथ पर घर की तलाश में

पैसे से आप चाहें तो सरकार गिरा दें
संसद बदल गयी है यहाँ की नख़ास में

जनता के पास एक ही चारा है बगावत
यह बात कह रहा हूँ मैं होशो-हवास में

काजू भुने पलेट में, विस्की गिलास में

kaajoo bhune palet mein, viskee gilaas mein
utara hai raamaraaj vidhaayak nivaas mein

pakke samaajavaadee hain, taskar hon ya dakait
itana asar hai khaadee ke ujale libaas mein

aajaadee ka vo jashn manaayen to kis tarah
jo aa gae phutapaath par ghar kee talaash mein

paise se aap chaahen to sarakaar gira den
sansad badal gayee hai yahaan kee nakhaas mein

janata ke paas ek hee chaara hai bagaavat
yah baat kah raha hoon main hosho-havaas mein

 


adam gondvi hindi shayari

"<yoastmark


वेद में जिनका हवाला हाशिये पर भी नहीं
वे अभागे आस्‍था विश्‍वास लेकर क्‍या करें

लोकरंजन हो जहां शम्‍बूक-वध की आड़ में
उस व्‍यवस्‍था का घृणित इतिहास लेकर क्‍या करें

कितना प्रतिगामी रहा भोगे हुए क्षण का इतिहास
त्रासदी, कुंठा, घुटन, संत्रास लेकर क्‍या करें

बुद्धिजीवी के यहाँ सूखे का मतलब और है
ठूंठ में भी सेक्‍स का एहसास लेकर क्‍या करें

गर्म रोटी की महक पागल बना देती मुझे
पारलौकिक प्‍यार का मधुमास लेकर क्‍या करें

वेद में जिनका हवाला हाशिये पर भी नहीं

ved mein jinaka havaala haashiye par bhee nahin
ve abhaage aas‍tha vish‍vaas lekar k‍ya karen

lokaranjan ho jahaan sham‍book-vadh kee aad mein
us v‍yavas‍tha ka ghrnit itihaas lekar k‍ya karen

kitana pratigaamee raha bhoge hue kshan ka itihaas
traasadee, kuntha, ghutan, santraas lekar k‍ya karen

buddhijeevee ke yahaan sookhe ka matalab aur hai
thoonth mein bhee sek‍sa ka ehasaas lekar k‍ya karen

garm rotee kee mahak paagal bana detee mujhe
paaralaukik p‍yaar ka madhumaas lekar k‍ya karen

 


adam gondvi urdu shayari

"<yoastmark


न महलों की बुलंदी से न लफ़्ज़ों के नगीने से
तमद्दुन में निखार आता है घीसू के पसीने से

कि अब मर्क़ज़ में रोटी है,मुहब्बत हाशिये पर है
उतर आई ग़ज़ल इस दौर मेंकोठी के ज़ीने से

अदब का आइना उन तंग गलियों से गुज़रता है
जहाँ बचपन सिसकता है लिपट कर माँ के सीने से

बहारे-बेकिराँ में ता-क़यामत का सफ़र ठहरा
जिसे साहिल की हसरत हो उतर जाए सफ़ीने से

अदीबों की नई पीढ़ी से मेरी ये गुज़ारिश है
सँजो कर रक्खें ‘धूमिल’ की विरासत को क़रीने से

न महलों की बुलंदी से न लफ़्ज़ों के नगीने से

na mahalon kee bulandee se na lafzon ke nageene se
tamaddun mein nikhaar aata hai gheesoo ke paseene se

ki ab marqaz mein rotee hai,muhabbat haashiye par hai
utar aaee gazal is daur menkothee ke zeene se

adab ka aaina un tang galiyon se guzarata hai
jahaan bachapan sisakata hai lipat kar maan ke seene se

bahaare-bekiraan mein ta-qayaamat ka safar thahara
jise saahil kee hasarat ho utar jae safeene se

adeebon kee naee peedhee se meree ye guzaarish hai
sanjo kar rakkhen ‘dhoomil’ kee viraasat ko qareene se

 


hindi shayari of adam gondvi

"hindi


आँख पर पट्टी रहे और अक़्ल पर ताला रहे
अपने शाहे-वक़्त का यूँ मर्तबा आला रहे

तालिबे शोहरत हैं कैसे भी मिले मिलती रहे
आए दिन अख़बार में प्रतिभूति घोटाला रहे

एक जनसेवक को दुनिया में अदम क्या चाहिए
चार छ: चमचे रहें माइक रहे माला रहे

आँख पर पट्टी रहे और अक़्ल पर ताला रहे

aankh par pattee rahe aur aql par taala rahe
apane shaahe-vaqt ka yoon martaba aala rahe

taalibe shoharat hain kaise bhee mile milatee rahe
aae din akhabaar mein pratibhooti ghotaala rahe

ek janasevak ko duniya mein adam kya chaahie
chaar chh: chamache rahen maik rahe maala rahe

 


hindi hain hum collection

adam gondvi, adam gondvi poems, adam gondvi rekhta, adam gondvi ki kavita, adam gondvi shayari, gondvi, adam gondvi kavita, adam gondvi books

MOTIVATIONAL SHAYARI IN HINDI | INSPIRATIONAL SHAYARI

SAD SHAYARI WITH IMAGES IN HINDI | 2 LINE SHAYARI

SAD SHAYARI IN HINDI FOR GIRLFRIEND | 2 LINE SHAYARI

भारत के गद्दार | रोंगटे खड़े कर देने वाली देशभक्ति VIDEO

 


 

You may also like